चीन ने सबसे लंबे मिशन पर भेजे दो अंतरिक्ष यात्री

इमेज कॉपीरइट EPA

चीनी अंतरिक्ष यान शेनज़ू-11 दो अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर सबसे लंबी अवधि के चीनी अतरिक्ष मिशन के लिए रवाना हो गया है.

अमरीका और रूस के बाद चीन अपने ही अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजने वाला तीसरा देश बन गया है.

शेनज़ू-11 को सोमवार को गोबी रेगिस्तान के किनारे बने जियोचुयान सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से लॉन्च किया गया.

शेनज़ू-11 में 49 साल के जिंग हैपेंग और 37 साल के चेन डोंग अंतरिक्ष में गए हैं. दोनों अंतरिक्ष यात्री एक महीने तक अंतरिक्ष प्रयोगशाला थियानगोंग-2 में रहेंगे.

यह किसी चीनी अंतरिक्ष यात्री के लिए सबसे लंबा अंतरिक्ष प्रवास होगा. जिंग हैपेंग इससे पहले दो बार अंतरिक्ष की यात्रा कर चुके हैं.

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने उम्मीद जताई कि इस क़दम से देश अंतरिक्ष में संभावनाएं तलाशने की दिशा में काफी आगे बढ़ेगा.

उन्होंने कहा, "शेनज़ू-11 के लॉन्च से चीन भविष्य में अंतरिक्ष की खोज में और बड़े कदम उठाने में सक्षम होगा. इस अभियान से चीन के अंतरिक्ष शक्ति बनने को भी नई मजबूती मिली है."

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption शेनज़ू-11 के साथ दो चीनी अंतरिक्ष यात्री जिंग हैपेंग और चेन डोंग भी अंतरिक्ष में गए हैं, जो वहां एक महीने तक रहेंगे.
इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सितंबर में चीनी रॉकेट अंतरिक्ष स्टेशन के साथ उपग्रह में भेजा गया था.

इस अभियान का मक़सद चंद्रमा और मंगल के लिए अंतरिक्ष यात्रियों को भेजने की संभावना का पता लगाना है.

क़रीब तीन साल पहले चीन का रोवर मिशन, जेड रैबिट रोबोट चांद की सतह पर पहुंचने में क़ामयाब रहा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)