हैकर्स से ऐसे बच सकते थे राहुल और कांग्रेस

इमेज कॉपीरइट AFP

राहुल गांधी और अब कांग्रेस पार्टी के ट्विटर अकाउंट के हैक होने के बाद एक सवाल सभी के लिए उठता है कि लोग अपने सोशल मीडिया के अकाउंट को कैसे सुरक्षित रखें.

पासवर्ड रखते समय किन बातों का ध्यान रखें जिससे हैक करने वाले के लिए उसका पता लगाना बहुत मुश्किल हो.

कुछ लोग अपने सोशल मीडिया अकाउंट के लिए ऑनलाइन पासवर्ड बनाने वाली सर्विस या पासवर्ड मैनेजर का इस्तेमाल करते हैं.

लास्टपास , 1पासवर्ड , डैशलेन , ट्रू की जैसे विकल्प को इस्तेमाल करने से आपका पासवर्ड ऐसा रहता है जो हमेशा सुरक्षित रहता है.

ऐसी वेबसाइट पर आपके पास ये विकल्प होता है कि पासवर्ड को खुद रखने के बजाय कंप्यूटर से तैयार किए जाएं इसलिए उनका पता लगाना बहुत मुश्किल है.

हर बार लॉग इन करने पर अलग पासवर्ड जेनरेट होता है इसलिए उसका पता लगाना कठिन है.

स्मार्टफोन पर कुछ भी डाउनलोड करने से पहले एक बार उसे ज़रूर देख लें. इसीलिए, अपने मोबाइल डेटा सेटिंग में बदलाव करके ऐसे वीडियो या तस्वीर को डाउनलोड होने से रोकें.

व्हाट्सऐप पर कभी-कभी अनजान लोग आपको ऐसे अटैचमेंट भेज देते हैं जो एक वायरस हो सकता है जो आपकी जानकारी चुरा सकता है.

फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया को अपनी डिवाइस से नहीं लॉग इन करना भी कुछ लोगों की आदत होती है.

हूटसुइट या स्प्रॉउटसोशल जैसे प्लेटफार्म इस्तेमाल करने से दूसरे ऐप आपके सोशल मीडिया की जानकारी चुरा नहीं पाएंगे.

अपने सोशल मीडिया के लिए ऑफिस के ईमेल को नहीं इस्तेमाल करना चाहिए. कहीं ऐसा नहीं हो कि ऑफिस के ईमेल से कुछ संवेदनशील जानकारी किसी और के पास पहुंच जाए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मोबाइल पर एंटी वाइरस सॉफ्टवेर भी डाउनलोड करने की सलाह कुछ लोग देते हैं. गूगल प्ले स्टोर पर कई ऐसे ऐप काफी पसंद किए जाते हैं.

इन सबकी कोशिश बेकार रहेगी अगर आप अपनी प्राइवेसी सेटिंग को अपनी ज़रुरत के हिसाब से नहीं सेट करते हैं.

फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, फ्लिकर और पिंटरेस्ट जैसी सभी सर्विस प्राइवेसी सेटिंग में बदलाव की इजाज़त देती है जिससे किसी के लिए आपके अकाउंट की जानकारी लेना मुश्किल होता है.

इससे आप ये तय कर सकते हैं कि आपके पोस्ट और फोटो कौन देख सकता है लेकिन जो राहुल गांधी और कांग्रेस जैसे अकाउंट का मकसद ही अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचना होता है इसलिए वे बहुत सारे सिक्यूरिटी रिस्ट्रिक्शन नहीं लगा सकते.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)