क्या आपको कभी ऑनलाइन ब्लैकमेल किया गया?

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

डिजिटल क्रांति ने हमारी जिंदगी को काफी बेहतर बना दिया है, लेकिन कई लोग ऐसे भी हैं जो इसका गलत इस्तेमाल कर रहे हैं. कुछ उचक्के इंटरनेट जरिए महिलाओं और पुरुषों के साथ ब्लैकमेलिंग भी करते हैं जिसे 'सेक्सटॉर्शन' भी कहा जाता है.

मैशेबल डॉट काम के मुताबिक पिछले कुछ सालों में 'सेक्सटॉर्शन' की घटनाएं दोगुनी से ज्यादा बढ़ी हैं. पुलिस आंकड़ों के अनुसार कुछ लोगों ने तो शर्मिंदगी में अपनी जान तक ले ली है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

'सेक्सटॉर्शन' एक तरह का ब्लैकमेल है जिसमें लोग ऑनलाइन अपराधियों से इंटरनेट के जरिए दोस्ती करते हैं. ऐसे अपराधी सोशल मीडिया पर आकर्षक प्रोफाइल बनाकर लोगों को लुभाते हैं. कई इंटरनेट यूजर इनके झांसे में आ जाते हैं. अपराधी उन लोगों से अपने वेबकैम के सामने नग्न होने या फिर यौन कार्य करने के लिए राजी कर लेते हैं.

इसके बाद शुरु होता है ब्लैकमेलिंग का सिलसिला. बता दें ऐसे अपराधियों का जाल काफी फैला हुआ होता है. ये आपकी निजी तस्वीरें या वीडियो डाउनलोड करने के बाद डराना शुरु करते हैं. आपसे एक मोटी रकम मांगी जाती है और ऐसा न करने पर आपकी तस्वीर आपके परिवार और पब्लिक से शेयर करने की धमकी भी दी जाती है. ऐसे लोगों के शिकार अक्सर 21 से 30 साल के होते हैं.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

जिसके साथ भी ऐसा होता है उन्हें सबसे पहले घबराना नहीं चाहिए बल्कि पूरे आत्मविश्वास के साथ इसका सामना करना चाहिए. अपराधियों से दोबारा बातचीन नहीं करनी चाहिए और पुरानी बातचीत की कॉपी रखनी चाहिए. उसके बाद अपने फेसबुक अकाउंट को ससपेंड कर देना चाहिए, डिलीट नहीं करनी चाहिए. ब्लैकमेल करने वाली साइट की ऑनलाइन रिपोर्टिंग करना चाहिए ताकि ऐसे अकाउंट ब्लॉक किए जा सकें.

अपने फेसबुक या गूगल अकाउंट पर एक अलर्ट ऐसा सेट कर लेना चाहिए कि आपत्तिजनक वीडियो दोबारा आने पर आपको पता चल जाए.

कभी भी ऐसे अपराधियों को फिरौती भी नहीं देना चाहिए क्योंकि कई बार ऐसा भी हुआ है कि रकम मिलने के बाद भी अपराधी आपका पीछा नहीं छोड़ते. हमेशा सबूत अपने पास रखें ताकि जरूरत पड़ने पर इनका इस्तेमाल किया जा सके.

इन सुझाओं को हमेशा ध्यान में रखने की जरूरत है, लेकिन हमेशा कहा जाता है कि इलाज से बेहतर है कि हम बचाव करें. अनजान लोगों से बातचीत या वीडियो चैट करते वक्त हमेशा सतर्क रहने की जरुरत है. कोई भी ऐसी हरकत न करें जिससे अपराधियों को फायदा पहुंचे, अपनी निजी जिंदगी की जानकारी या तस्वीर अजनबियों से शेयर न करें. अगर फिर भी आपके साथ ब्लैकमेलिंग होती है तो तुरंत पुलिस से शिकायत करें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे