एशिया में बढ़ा गूगल और एप्पल ऐप स्टोर यूज़र्स का दबदबा

स्मार्टफ़ोन इमेज कॉपीरइट Getty Images

स्मार्टफ़ोन्स के दो प्रमुख एप्लिकेशन स्टोर्स ने अपने वार्षिक अध्ययन के अनुसार साल 2016 एशियाई मोबाइल फ़ोन यूज़र्स के नाम रहा.

लेकिन एनालेटिक्स फ़र्म ऐप एनी इस 'वार्षिक अध्ययन' को एक कदम आगे ले गई है.

इस फ़र्म ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि साल 2016 में अमरीका और ब्राज़ील को पीछे छोड़ते हुए भारत ऐसा देश बना, जहां गूगल के प्ले-स्टोर की मदद से सबसे ज़्यादा ऐप डाउनलोड किए गए.

इस रिपोर्ट में यह दावा भी किया गया है कि पहली बार एप्पल के आईओएस ऐप स्टोर के लिए चीन राजस्व का सबसे बड़ा स्रोत बन गया है.

हालांकि, बीबीसी समझता है कि एप्पल के अपने ख़ुद के आंकड़े इसका खंडन करते हैं.

वे बताते हैं कि चीन अभी भी अमरीका और जापान की तुलना में एप्पल के लिए छोटा मार्केट है.

गूगल के किसी भी प्रवक्ता ने इसपर टिप्पणी करने से साफ़ इनकार कर दिया है.

आपको बता दें कि गूगल और एप्पल, दोनों ही अपने प्लेटफॉर्म पर थर्ड-पार्टी ऐप प्रकाशित करने के लिए फीस लेते हैं.

साथ ही यह भी कि गूगल-प्ले चीन में काम नहीं करता है, जबकि आईफ़ोन का भारतीय बाज़ार में गूगल की तुलना में बहुत ही छोटा शेयर है.

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, भारत में गूगल की लोकप्रियता को इस बात से जोड़कर देखा जाना चाहिए कि साल 2016 में भारत दुनिया के दूसरे सबसे बड़े स्मार्टफोन बाज़ार में तब्दील हो चुका है. अब सिर्फ चीन में भारत से ज़्यादा स्मार्टफ़ोन यूज़र हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption एनालेटिक्स फ़र्म ऐप एनी की रिपोर्ट में बताया गया है कि गूगल से भारत में करीब 6 अरब ऐप डाउनलोड हुए हैं. वो भी महज़ 12 महीनों में.

एनी ऐप के पॉल बार्न्स ने बीबीसी को बताया कि एक भारतीय स्मार्टफ़ोन यूज़र के फ़ोन में आज की तारीख़ में ब्रिटेन के एक यूज़र के मुक़ाबले ज्यादा ऐप हैं.

बार्न्स ने कहा कि इसकी बड़ी संभावना है कि साल 2020 के अंत तक भारत गूगल प्ले-स्टोर के ज़रिए 20 अरब ऐप डाउनलोड्स की संख्या हासिल कर ले और चार्ट के टॉप पर पहुंच जाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे