एक ही परिवार में तीसरे मर्द को ब्रेस्ट कैंसर

ब्रेस्ट कैंसर वो बीमारी है जिसके बारे में माना जाता है कि इससे केवल महिलाओं को जूझना पड़ता है. ब्रिटेन का एक परिवार इस लिहाज से अपवाद कहा जा सकता है.

कूपर परिवार के दो लोगों की मौत ब्रेस्ट कैंसर से हो चुकी है और जाइल्स कूपर इस कड़ी में तीसरे शख्स हैं जो इससे पीड़ित हैं.

पहले पिता और फिर चाचा की मौत के बाद जाइल्स कूपर को अपने सीने में गांठ का पता चला.

मुफ़्त में ब्रेस्ट टैटू, पर शौक नहीं ज़रूरत

नींबू से समझिए स्तन कैंसर की निशानियां

कैंसर रोकने का तरीका बना सकता है ये कश्मीरी

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
स्तन कैंसर: जानकारी ही बचाव है

इलाज के दौरान जाइल्स की दो बार मैस्टेक्टॉमी की गई जिसमें सर्जरी के जरिए इस गांठ को हटा दिया गया.

जाइल्स अब भी सार्वजनिक तौर पर अपनी छाती पर ऑपरेशन के निशान दिखाने से घबराते हैं.

जानलेवा नहीं है स्तन कैंसर

काली महिलाओं में स्तन कैंसर अधिक, क्यों?

स्तन कैंसर वीडियो मामले में फ़ेसबुक की माफ़ी

सर्जरी के अपने अनुभव के बारे में जाइल्स कहते हैं, "सर्जरी से पहले बेहोश करने वाले डॉक्टर ने मुझसे कहा कि मैं 20 सालों में पहली बार ब्रेस्ट कैंसर के किसी पुरुष मरीज को सुलाने जा रहा हूं. यह मेरे लिए ख़तरे की घंटी जैसा था."

'कैंसर रिसर्च यूके' के मुताबिक ब्रिटेन में हर साल तकरीबन 400 ऐसे मामले सामने आते हैं जिनमें ब्रेस्ट कैंसर के मरीज पुरुष होते हैं जबकि महिलाओं की संख्या 55 हज़ार के करीब है.

स्तन कैंसर से महफ़ूज नहीं बुजुर्ग महिलाए भी!

#100Women: 'कैंसर मुझे रोक नहीं सकता'

नन्ही मशीन जांच सकती है स्तन कैंसर

Image caption कूपर परिवार

जाइल्स ने ब्रेस्ट कैंसर सपोर्ट ग्रुप का सहारा लिया है. सपोर्ट ग्रुप से मिल रही मदद के बारे में उन्होंने बताया, "वहां कमरे में 12 लोग थे. सब बहुत प्यारे थे लेकिन वे महिलाएं थीं. उनमें से ज्यादातर ब्रेस्ट कैंसर से पीड़ित थीं. उस जमात में बेशक मैं इकलौता पुरुष था."

वह आगे कहते हैं, "मैं दो सालों से ब्रेस्ट कैंसर से पीड़ित हूं और मैं अभी तक किसी ऐसे पुरुष से नहीं मिला हूं जिसे ये समस्या हो."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे