औलाद नहीं चाहिए तो ये लेप लगाइए

इमेज कॉपीरइट Science Photo Library

मर्दों में गर्भनिरोध की एक नई तकनीक का बंदरों पर परीक्षण कामयाब रहा है. इस तकनीक में एक क्रीम के जरिए शुक्राणुओं के प्रवाह को रोका जाता है.

वैसलक्रीम को पुरुष के उस ट्यूब में डाल दिया जाता है जिससे शुक्राणु लिंग की तरफ जाते हैं.

इस नए पुरुष गर्भनिरोधक को लाने वाली कंपनी का कहना है कि दो साल के परीक्षणों के बाद पाया गया कि यह क्रीम काम कर रही है और नर बंदरों में इसके नतीजे सकारात्मक रहे हैं.

कंपनी को उम्मीद है कि आने वाले कुछ सालों में इसका प्रयोग पुरुषों पर किया जा सकेगा और इसके लिए उनके पास पर्याप्त आधार होगा.

जहां बांटी जा रहीं हैं मुफ्त में गर्भनिरोधक गोलियां

कितनी ख़तरनाक हैं गर्भ निरोधक गोलियां?

प्रेंगनेंसी रोकने के चार नए तरीके

ये इंजेक्शन बाप बनने से रोकेगा

पुरुषों के लिए गर्भ निरोधक इंजेक्शन !

इमेज कॉपीरइट CALIFORNIA NATIONAL PRIMATE RESEARCH CENTRE
Image caption बंदरों में वैसलजेल का प्रयोग सफल रहा है

अगर यह प्रयोग कामयाब रहा और जरूरी कानूनी मंजूरी मिल जाती है तो बीते सालों में वैसलजेल अपनी तरह का पहला पुरुष गर्भनिरोधक होगा.

फिलहाल पुरुष दो तरीके से गर्भनिरोध का रास्ता अपना सकते हैं. ये हैं कंडोम और नसबंदी. वैसलजेल का असर नसबंदी की तरह ही है.

शोधकर्ताओं को उम्मीद है नसबंदी के विपरीत अगर पुरुष बच्चे के लिए अपना फैसला बदलना चाहें तो वैसलजेल उन्हें यह विकल्प दे सकेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे