सेब से तैयार हो सकता है आपका कान

  • 2 मार्च 2017

दुनिया की एक बड़ी आबादी के लिए सेब खाने की चीज़ है, लेकिन कनाडा के बायोफ़िज़िस्ट एंड्रयू पेलिंग को लगता है कि इस फल का कुछ और भी इस्तेमाल हो सकता है.

पेलिंग यूनिवर्सिटी ऑफ़ ओटावा में प्रोफ़ेसर हैं और वे न केवल सेब बल्कि दूसरे फलों और यहां तक कि सब्जियों का इस्तेमाल मानव अंग के पुनर्सृजन के लिए कर रहे हैं.

इसके पीछे उनका मकसद रीजेनरेटिव मेडिसिन में नए और सस्ते तरीकों का विकास करना है.

Image caption बायोफिजिस्ट एंड्रयू पेलिंग

उन्होंने हाल ही में एक प्रयोग किया. एंड्रयू पेलिंग और उनकी टीम ने एक सेब से उसकी कोशिकाओं और उत्तकों को अलग कर लिया. इसके बाद सेब में लुग्दी वाला हिस्सा ही रह गया ताकि किसी को ये फल भुरभुरा ही लगे.

ज़्यादातर सब्ज़ियों और रेशेदार फलों में सेल्युलोज़ की वजह से सख्ती आती है और मनुष्य इसे पचा नहीं पाता.

वैज्ञानिकों ने फल के भीतर के इस हिस्से को इतना असरदार पाया कि उनमें प्रयोगशाला में जीवित कोशिकाएं पैदा की संभावना देखी. इसमें मानव शरीर की कोशिकाएं बनाने की भी संभावना है.

दूसरा ये कि वैज्ञानिकों ने सेब को काट-छांट कर उसे कान जैसा आकार दिया. इसका इस्तेमाल सेल्युलोज़ का 'ढांचा' तैयार करने में किया गया ताकि मानव कोशिकाएं लैब में उगाई जा सकें और फिर उन्हें 'कान बना दिया' जाए.

प्रोफेसर पेलिंग ने बीबीसी को बताया, "ये एक कम लागत वाला ज़रिया है. आप इससे कई तरह के ढांचे तैयार कर सकते हैं. रीजेनरेटिव मेडिसिन के क्षेत्र में ये कई संभावनाएं खोलता है."

दुनिया में ऐसे कई लोग हैं जिनके शरीर का कोई अंग ख़राब हो गया है और रीजेनरेटिव मेडिसिन अंगों को फिर से लगाने या बीमार कोशिकाओं के इलाज में मदद करता है. डॉक्टर और वैज्ञानिक इन ढांचों का इस्तेमाल त्वचा और हड्डियों को जोड़ने, घायल घुटनों की मरम्मत, लिगामेंट या मसूड़ों के इलाज में करते हैं.

लेकिन बाजार में उपलब्ध विकल्प बेहद महंगे हैं. जानवरों या फिर मनुष्यों के शवों से लिया या तैयार किया गया कोई अंग इतना महंगा होता है कि इसकी कीमत 30 डॉलर से 1500 डॉलर प्रति स्क्वेयर सेंटीमीटर तक पड़ती है.

सेब से तैयार किए गए मानव अंग की कीमत इनसे काफ़ी कम होगी.

तो जब भी आपको एक नया कान चाहिए होगा? आप सेब की तरफ़ देख सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)