अब विटामिन बी की खुराक बचाएगी वायु प्रदूषण से

इमेज कॉपीरइट Getty Images

विटामिन बी वायु प्रदूषण से कुछ हद तक बचाव कर सकता है. ये नतीजा छोटे स्तर पर मनुष्यों पर किए एक शोध अध्ययन से ज़ाहिर हुआ है.

अमरीकी शोधकर्ताओं के मुताबिक विटामिन बी की ज़्यादा मात्रा लिए जाने से पीएम 2.5 कण वाले प्रदूषण से हुए नुकसान को कम किया जा सकता है. वैज्ञानिकों के मुताबिक वास्तव में ऐसा होता है लेकिन उन्होंने ये भी माना है कि ये प्रयोग अभी सीमित लोगों पर ही किया गया है.

शोधकर्ताओं के मुताबिक इस दिशा में विस्तार से अध्ययन किए जाने की जरूरत है, ख़ासकर बीजिंग और मैक्सिको जैसे उन शहरों में जहां की आबोहवा काफ़ी प्रदूषित है.

वायु प्रदूषण से दिमाग़ को भी नुक़सान?

दुनिया भर में वायु प्रदूषण की चपेट में आने वाले लोगों की संख्या बढ़ रही है, हालांकि वायु प्रदूषण के चलते वास्तविक तौर पर बीमार होने वाले लोगों की सही संख्या का अंदाज़ा नहीं लगाया जा सका है.

90 फ़ीसदी आबादी पर असर

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक दुनिया भर की 90 फ़ीसदी आबादी उन हिस्सों में रहने को मज़बूर जहां की आबोहवा सुरक्षा मानकों की तुलना में बहुत अशुद्ध है.

इमेज कॉपीरइट SPL

दरअसल वायु प्रदूषण में सबसे ख़तरनाक पीएम 2.5 (फाइन पार्टिकुलेट मैटर) ही होता है, ये वैसे धूलकण होते हैं जिनका व्यास 2.5 माइक्रोमीटर से कम होता है.

पीएम 2.5 सबसे ज़्यादा डीज़ल कार, लकड़ी जलाने वाले स्टोव और कुछ दूसरे गैसों के मिश्रण से उत्पन्न होते हैं.

ये कण मानव शरीर में प्रवेश करके फेफड़ों और हृदय संबंधी मुश्किलें उत्पन्न करते हैं, युवाओं में भी और बुज़ुर्गों में भी.

हर दस में से एक की मौत वायु प्रदूषण से

दरअसल प्रदूषित हवा में पीएम 2.5 की मात्रा, मनुष्य की कोशिकाओं की सरंचना में बदलाव लाती है, जिससे शरीर की प्रतिरोधी क्षमता पर असर होता है. शोधकर्ता पहले ही जानवरों के शरीर में न्यूट्रीएंट्स के ज़रिए इस बदलाव को रोकने में कामयाबी हासिल कर चुके हैं.

अब इसका प्रयोग मनुष्यों पर किया गया है, जिसमें 2.5 एमजी फॉलिक एसिड, 50 एमजी विटामिन बी6 और 1एमजी विटामिन बी 12 की खुराक के साथ शरीर पर वायु प्रदूषण के असर को आंका गया है.

चार सप्ताह की खुराक

विशेषज्ञों के मुताबिक चार सप्ताह की खुराक के साथ इंसानी शरीर में 28 से 76 फ़ीसदी तक पीएम 2.5 के असर को कम करने में मदद मिली है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हार्वड स्कूल ऑफ़ पब्लिक हेल्थ के जिया ज़हांग ने इस अध्ययन का नेतृत्व किया है, उनके मुताबिक, "इसके असर को देखें तो वायु प्रदूषण के स्तर को काफ़ी हद तक कम कर लिया है. हमने अलग अलग मात्रा का इस्तेमाल नहीं किया है, लेकिन ज़्यादा मात्रा की खुराक दी है."

वायु प्रदूषण के असर को कम करने में लगे दूसरे वैज्ञानिकों ने इस अध्ययन का स्वागत किया है, लेकिन माना है कि थोड़ी सावधानी से इस दिशा में आगे बढ़ना होगा.

भारत का गला घोंट रही है ज़हरीली हवा

हालांकि शोधकर्ताओं ने साफ़ किया है कि वे अभी इस स्थिति में नहीं हैं कि वो वायु प्रदूषण के असर को कम करने लिए विटामिन बी की ख़ुराक के इस्तेमाल को अपनाने की मंजूरी दे पाएं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)