मर्द वाले हॉर्मोन का यूं रखें ख़याल

टेस्टोस्टेरोन इमेज कॉपीरइट Thinkstock

टेस्टोस्टेरोन एक हॉर्मोन है जो पुरुषों के अंडकोष में पैदा होता है. आमतौर पर इसे मर्दानगी के रूप में देखा जाता है. इस हार्मोन का पुरुषों की आक्रामकता, चेहरे के बाल, मांसलता और यौन क्षमता से सीधा संबंध है.

शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्वास्थ के लिए यह हॉर्मोन सभी पुरुषों के लिए ज़रूरी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन उम्र के साथ कम होने लगता है. एक अनुमान के मुताबिक 30 और 40 की उम्र के बाद इसमें हर साल दो फ़ीसदी की गिरावट आने लगती है. इसमें क्रमिक गिरावट सेहत से जुड़ी कोई समस्या नहीं है, लेकिन कुछ ख़ास बीमारियों, इलाज या चोटों के कारण सामान्य से कम हो जाता है.

सेक्स में चरम सुख की कुंजी क्या है?

सेक्स से जुड़े सवालों का यहां है जवाब

टेस्टोस्टेरोन हार्मोन में कमी को हाइपोगोनडिज़म कहा जाता है. ब्रिटिश पब्लिक हेल्थ सिस्टम के मुताबिक़ इससे 1000 में से पांच लोग पीड़ित हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

टेस्टोस्टेरोन सामान्य से कम है इसे ऐसे जानें

  • थकान और सुस्ती
  • अवसाद, चिंता, चिड़चिड़ापन
  • यौन संबंध बनाने की इच्छा कम होना, नपुंसकता की शिकायत
  • ज़्यादा देर तक कसरत नहीं कर पाना और मजबूती में गिरावट
  • दाढ़ी और मूंछों का बढ़ना कम होना
  • पसीना ज़्यादा निकलना
  • यादाश्त और एकाग्रता का कम होना

लंबे समय तक हाइपोगोनडिज़म से हड्डियों को नुक़सान पहुंचने का जोखिम रहता है. इससे हड्डियां कमज़ोर होती हैं और फ्रैक्चर की आशंका बढ़ जाती है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हाइपोगोनडिज़म क्या है?

हाइपोगोनडिज़म एक ख़ास तरह की मेडिकल परिस्थिति है जो उम्र बढ़ने के साथ पैदा होने वाली सामान्य स्थिति से अलग है. इसका सीधा संबंध मोटापा और टाइप 2 डायबिटीज से है.

काम के दौरान सेक्स के लिए मिले ब्रेक!

ओरल सेक्स हो सकता है ख़तरनाक

आप अपने टेस्टोस्टेरोन का मूल्यांकन कई ख़ून जांच से करा सकते हैं. इसका स्तर हर दिन सामान्य नहीं होता है. यदि इसमें गिरावट दर्ज की जाती है तो मरीज़ को एन्डोक्राइन स्पेशलिस्ट के पास भेजा जाता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

टेस्टोस्टेरोन कम होने की वजह क्या है?

टेस्टोस्टेरोन पुरुषों के अंडकोष में विकसित होता है जो पिट्यूटरी ग्रंथि और हाइपोथैलेमस से नियंत्रित होता है. अगर किसी भी बीमारी से पिट्यूटरी ग्रंथि और हाइपोथैलेमस प्रभावित होता है तो यह हाइपोगोनडिज़म का कारण बनता है. इसका अंडकोष से भी सीधा संबंध होता है. अंडकोष में चोट, उसकी सर्जरी, क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम और आनुवांशिकी गड़बड़ी से पिट्यूटरी ग्रंथि और हाइपोथैलेमस प्रभावित होता है, जिससे हाइपोगोनडिज़म के हालात पैदा होते हैं.

इन्फेक्शन, लीवर और किडनी में बीमारी, शराब की लत, कीमोथेरपी या रेडिएशन थेरपी के कारण भी टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन में कमी आती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे