नज़रिया: वो बातें जो सेक्स एजुकेशन के बारे में सिखाई जानी चाहिए

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ज़िंदगी में कुछ ऐसे सबक भी होते है जो हम कभी न कभी सीखते तो हैं लेकिन मुश्किल तरीके से ...जैसे सेक्स एजुकेशन.

आइए नज़र डालते हैं कुछ ऐसी बातों पर जो अगर हमें स्कूल की सेक्स एजुकेशन क्लास में सिखाई गईं होतीं तो हमारे जैसे लोग कई तरह की शर्मींदगी से बच जाते.

बच्चों को हस्तमैथुन की शिक्षा पर विवाद

"सेक्स शिक्षा की कमी टाइम बम जैसी है"

इमेज कॉपीरइट Getty Images

समलैंगिक समुदाय के बारे में

दुनिया में लाखों लोग ऐेसे हैं जो खुद को लेस्बियन, गे, ट्रांससेक्शुअल और बाइसेक्शुअल मानते हैं.

और कई लोग तो ऐसे हैं जो अंधेरे में हैं और नहीं जानते कि उनके मुद्दे कैसे सुलझाए जाएं, क्या अच्छा है और क्या बुरा.

एलजीबीटी समुदाय के लोगों को भी स्कूल में सेक्स के बारे में बताया जाना चाहिए. अगर उन्हें कोई बताएगा नहीं तो इन लोगों के पास ख़ुद से सीखने के अलावा कोई चारा नहीं होगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भावनाओं का क्या

सेक्स के जिस्मानी पहलुओं पर बहुत सारी बातें की जाती हैं लेकिन इसके भावनात्मक स्वरूप का क्या?

हकीकत में भावनाओं का हमारे शरीर पर बहुत असर पड़ता है. हम सब जानते हैं कि सेक्स का आनंद उस व्यक्ति के साथ कितना बढ़ जाता है जिसे हम वाकई पसंद करते हैं.

ठीक इसी तरह हम में से कई लोग सेक्स क्रिया के नतीजों को लेकर मानिसक उलझन में पड़ जाते हैं. सेक्स का असर जितना दिल पर पड़ता है, उतना ही दिमाग पर.

कंडोम से बेहतर ऑप्शन नहीं

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हममें से कई लोगों ने ऐसे किस्से सुने होंगे कि गर्भ निरोधक के तौर पर 'कुछ भी' आजमा लिया. ये कभी काम नहीं करते. कंडोम सबसे बेहतर विकल्प हैं.

सेक्स टॉय

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ग़ैर अनुभवी लोगों को सिखाने के लिए सेक्स टॉय अच्छा विकल्प हैं. ये कई तरह के रंगों, आकार और शक्ल में आते हैं और सेक्स के अनुभव को बेहतर बना सकते हैं.

शराब और सेक्स

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

जब हमने शराब पी रखी हो तो किसी दूसरे व्यक्ति के सामने नग्न होना, आज़ादी भरा अनुभव हो सकता है. लेकिन शराब का ज़्यादा सेवन सेक्स के अनुभव को ख़राब भी कर सकता है.

सेक्स कितनी बार ?

हो सकता है कि आपके दोस्त कहें वो दिन में 20 दफ़ा सेक्स करते हैं. पर ये शायद झूठ है. ऐसी कोई सीमा नहीं है कि कितनी बार सेक्स करना सही है.

कुछ लोगों के लिए रोज़ाना सही है और कुछ लोगों के साल में एक बार करना ठीक है.

हो सकता है हम बहुत थके हुए हों या हमारा ध्यान कहीं और हो .

सेक्स फन है

सेक्स एजुकेशन में हमें सुरक्षित, फौरी जरूरत, बचाव और प्रजनन के बारे में बताया जाता है.

लेकिन इस सीधी सी बात का क्या कि सेक्स से बहुत आनंद मिलता है?

ऑर्गज़्म या संतुष्टि जैसी किसी चीज का अस्तित्व है और इससे वाकई संतोष मिलता है.

गणित के होमवर्क में सेक्स से जुड़े सवाल

गर्भवती छात्राओं के पढ़ने पर पाबंदी

सेक्स का भूगोल

सेक्स के भूगोल के बारे में कैसे जानेंगे?

शरीर के कुछ महत्वपूर्ण अंग खास जगहों पर हैं. ये हम सबके लिए बेहतर होगा कि इनकी वस्तुस्थिति के बारे में लोग जानें.

सेक्स में चरम सुख की कुंजी क्या है?

सिक्रेटसेक्स

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इसके तौर तरीकों के बारे में थोड़ा बहुत बताया गया था लेकिन इससे जुड़े पूरे तथ्यों को नहीं बताया जाता..जैसे कि सेक्स पूरी तरह से साफ-सुथरा नहीं होता.

यह ठीक वैसा ही है जैसे आप खाना बनाते हैं तो आपसे कई चीजें बिखर जाती हैं और आपको उन्हें साफ करना होता है.

सेक्स में भी ऐसा ही होता है. सौभाग्य से आपके पास नहाने-धोने के लिए पानी होता है और मामूली कीमत पर आप अच्छा तौलिया खरीद सकते हैं.

क्या बच्चों को पॉर्न की शिक्षा दी जानी चाहिए?

'सिर्फ राष्ट्रहित से जुड़े शोध को मिले मंज़ूरी'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)