अमरीकियों के मोबाइल में अब नहीं झांकेगा एनएसए

इमेज कॉपीरइट NSA

अमरीकी राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी एनएसए विदेशी खुफिया लक्ष्यों का उल्लेख करने वाले अमरीकी नागरिकों के संदेशों की निगरानी करना बंद करेगी.

साल 2008 में जारी एक क़ानून के तहत एनएसए को किसी अमरीकी नागरिक की निगरानी के लिए वारंट की ज़रूरत नहीं रह गई थी.

मीडिया में जारी बयान में एनएसए ने कहा कि एक विभागीय समीक्षा में इस कार्यक्रम से जुड़ी समस्याओं और अमरीकी नागरिकों की प्राइवेसी पर इसके असर के बारे में पता चला है.

सर्विलेंस विशेषज्ञों के अनुसार एनएसए का ये फ़ैसला 'बेहद महत्वपूर्ण' है.

अदालत ने एनएसए की जासूसी को अवैध बतायादी

एनएसए की गतिविधियों पर लगाम कसेंगे ओबामादी

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption एनएसए का डेटा सेंटर

हालांकि एनएसए को देश के भीतर निगरानी करने की अनुमति नहीं थी, लेकिन साल 2008 के फॉरेन इंटेलिजेंस सर्विलेंस एक्ट (फ़ीसा) की एक धारा के कारण वो इससे बचने में कामयाब रहा था.

इसकी मदद से वो अमेरिका के नागरिकों के ऐसे फोन कॉल और संदेशों की निगरानी कर सकता था जिनमें देश के बाहर के लोग शामिल हों.

फ़ीसा के इस्तेमाल के लिए एनएसए की व्यापक आलोचना की गई थी क्योंकि ऐसा करने का मतलब था कि बिना वारंट मांगे वो अमरीकी लोगों के भेजे संदेश इकट्ठा कर सकते थे.

अपने बयान में एनएसए ने कहा हा कि तकनीकी सीमाओं, गोपनीयता से जुड़ी समस्याओं और ऐसे निगरानी करने की आ रही मुश्किलों के कारण उन्होंये से फ़ैसला लिया है. उन्होंने ये भी कहा है कि इस तरह एकत्र किए गए डेटा का 'अधिकांश हिस्सा' वो डिलीट कर देगा.

"टीवी, स्मार्टफोन सब हैं सीआईए के जासूस"

जासूसी मामले में अमरीका-फ्रांस में ठनीदी

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption एनएसए के पूर्व निदेशक कीथ एलेक्ज़ेंडर

इस साल अमरीकी कांग्रेस एनएसए को फ़ीसा के तहत मिली शक्तियों की समीक्षा करने वाली है और इसका नवीनीकरण करने वाली है. कांग्रेस के कई सदस्यों के इसके लिए एनएसए की आलोचना की है और राजनेता उम्मीद कर रहे हैं कि इस समीक्षा के बाद इसकी शक्तियों को सीमित कर दिया जाएगा.

निगरानी के लिए एनएसए के वारंट संबंधी आवेदनों को देखने वाली अमरीकी संघीय इंटेलिजेंस सर्विलेंस कोर्ट ने भी फ़ीसा जासूसी कार्यक्रम की निंदा की है.

हालांकि एनएसए ने इसका समर्थन करते हुए कहा था कि इससे 'ज़रूरी जानकारी' इकट्ठा करने में मदद मिलती है.

अमरीका- 'आम लोग हुए जासूसी के शिकार'दी

'कथित रूसी दख़ल की जांच चल रही है'

कैटो इंस्टीट्यूट में प्राइवेसी और सर्विलेंस विशेषज्ञ जूलियन सान्चेज़ कहते हैं कि फ़ीसा के कारण इसका दायरा इतना बड़ा हो गया था कि नागरिक स्वतंत्रता का समर्थन करने वाले इसका कड़ा विरोध कर रहे थे.

सान्चेज़ ने रॉयटर्स को बताया, "आम तौर पर निगरानी करने के लिए आप एक व्यक्ति को चिन्हित करते हैं, लेकिन ये तो सभी की निगरानी करना और उसमें से लोगों के नाम निकालना था."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे