अविवाहित लोग होते हैं बेहतर इंसान: रिसर्च

  • 6 मई 2017
सिंगल इमेज कॉपीरइट Getty Images

अगर आप सिंगल हैं तो आपके बारे में लोग कई तरह की धारणा बनाने लगते हैं. आप बहुत अकेलापन महसूस करते होंगे, आप किसी एक की तलाश को लेकर काफी परेशान होंगे. इस तरह के कई सवाल पूछे जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में बेला डी पाउलो प्रोजेक्ट साइंटिस्ट हैं. उन्होंने इसे लेकर एक लेख प्रकाशित किया है. जिसमें न केवल इन परंपरागत सवालों को चुनौती के रूप में देखा गया है बल्कि यह बताया गया है कि सिंगल रहना क्यों फ़ायदेमंद है.

हृतिक रोशन ने कहा, सिंगल हूँ और खुश हूँ

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उनकी रिसर्च के मुताबिक़ सिंगल रहना न केवल उस शख़्स के लिए फ़ायदेमंद है बल्कि यह उस समाज के भी हक़ में होता है. डी पाउलो ने कहा, ''मैंने अविवाहित लोगों पर लेखन और शोध में दो दशक से ज़्यादा वक़्त खर्च किया है. इस दौरान मैंने पाया कि अविवाहित लोगों की संख्या में बढ़ोतरी हमारे नगरों, शहरों, समुदायों, रिश्तेदारों, दोस्तों और पड़ोसियों के लिए वरदान की तरह है.''

सिंगल हूँ पर प्यार के लिए तैयार नहीं: नरगिस फ़करी

डी पाउलो ने कहा कि अमरीका में अविवाहित लोग विवाहित लोगों के मुकाबले लोगों को साहस देने, मदद करने, समाज में दोस्तों और पड़ोसियों के साथ घुल मिलकर रहने में आगे रहते हैं. उन्होंने कहा कि सिंगल लोग, औरों को उत्साहित करने, सलाह देने, साथ रहने और हर वक़्त परिवार के साथ खड़े रहने में आगे होते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

डी पाउलो ने कहा, ''अविवाहित लोग अकेले रहें या लोगों के साथ, इसे लेकर वे बेपरवाह होते हैं. वे सामाजिक गतिविधियों, शैक्षणिक ग्रुपों और कला के ज़्यादा करीब होते हैं. सबसे दिलचस्प यह है कि लोग शादी करने के बावजूद और ज़्यादा अकेलापन महसूस करते हैं. उनके जीवन में अकेलापन घर कर जाता है.''

डी पाउलो के मुताबिक सिंगल लोग कई क्षेत्रों में बढ़िया करने का माद्दा रखते हैं. डी पाउलो ने कहा कि उन्होंने जिन अविवाहित लोगों को लेकर रिसर्च की है उससे साफ़ है कि वे अकेलापन महसूस नहीं करते हैं.

उन्होंने कहा कि सिंगल लोगों के जल्दी मरने वाली रिपोर्ट में सच्चाई कम है. उन्होंने कहा कि इसे बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया है. डी पाउलो ने कहा कि सिंगल लोगों के चेहरे को बिल्कुल स्टीरियोटाइप दिखाया जाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे