बीयर के लिए इंसानों का 50 हज़ार लीटर पेशाब

  • 7 मई 2017
डेनमार्क

शराब बनाने वाली एक डेनिश कंपनी ने एक नई बीयर बनाई है. इस बीयर का नाम पिसनर है. इसे बनाने के लिए एक म्यूज़िक फेस्टिवल से 50 हज़ार लीटर पेशाब इकट्ठी की गई थी.

शराब बनाने वाली कंपनी नोरब्रो का कहना है कि फाइनल प्रोडक्ट में कोई भी मानवीय अपशिष्ट नहीं है.

कहीं आपकी बीयर में मछली तो नहीं मिली है!

बीयर गटकें या फिर लें वाइन की चुस्की?

पिसनर में जिस बार्ली का इस्तेमाल किया गया है उसके उत्पादन में खाद के रूप में इंसानों के पेशाब का उपयोग किया गया था. सामान्य तौर पर खाद के रूप में जानवरों के गोबर या फैक्ट्री में बने उवर्रक का इस्तेमाल किया जाता है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पेशाब को दो साल पहले उत्तरी यूरोप के सबसे बड़े म्यूज़िक फेस्टिवल रोसकिले से स्टोर किया गया था.

नोरेब्रो के सीईओ हेनरिक वांग ने कहा, ''जब हमने इस तरह से बीयर बनाने की जानकारी दी तो लोगों को लगा कि हम बीयर में सीधे पेशाब डाल रहे हैं. इसे सुनकर हमलोग खूब हंसे.'

इमेज कॉपीरइट Reuters

डेनमार्क के एग्रीकल्चर और फूड काउंसिल का कहना है कि मानवीय अपशिष्टों का खाद के रूप में इस पैमाने पर इस्तेमाल किया जाना बिल्कुल नई बात है. यह आइडिया ख़ास और टिकाऊ हाप्सटर बीयर बनाने में 'और क्या किया जा सकता है' के दौरान आया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस आइडिया को ''बीयरसाइक्लिंग'' कहा जा रहा है. 2015 के रोसकिले म्यूज़िक फेस्टिवल में शरीक होने वाले एंड्रेस स्जोग्रेन ने कहा कि इसे चखने पर तनिक भी पेशाब की तरह नहीं लगता है. मैंने इसे पिया है लेकिन कहीं से भी ऐसा नहीं लगा.''

इस 50 हज़ार लीटर पेशाब से जितनी बार्ली की उत्पादन हुआ उससे 60 हज़ार बोतल बीयर बनी है. दरअसल, पेशाब को बीयर बनाने की प्रक्रिया में शामिल करने वाली मशीन मौजूद है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

बेल्जियम यूनिवर्सिटी की एक टीम ने पिछले साल कहा था कि उन्होंने एक मशीन बनाई है जो पेशाब को पेय जल और उवर्रक में तब्दील कर देती है. इस तकनीक का इस्तेमाल ग्रामीण इलाक़ों और विकाशील देशों में किया जा रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे