महिला हस्तमैथुन: मिथक और सच्चाई

हस्तमैथुन

25 साल की हना ने अपनी किशोरावस्था के अनुभवों के बारे में बीबीसी थ्री के लिए लिखा है. आप उन्हीं के शब्दों में पढ़िए-

मेरा नाम हना है और मैं हस्तमैथुन करती हूं. आप करते हैं, बहुत ज़्यादा, नहीं करते?

लेकिन महिलाएं हस्तमैथुन के बारे में बहुत ज़्यादा बात नहीं करती हैं. क्या वे बात करती हैं?

मैं 25 साल की हूं और मुझे याद है कि लड़के स्कूल के दिनों में इस पर खुलकर बात करते थे. लेकिन लड़कियां? ज़ाहिर है उन्हें यह आज़ादी नहीं थी.

यदि हमलोगों से कभी किसी लड़के ने हस्तमैथुन करने के बारे में पूछा तो इसका एक ही जवाब होता था- नहीं, यह अश्लील है, ज़ाहिर है बिल्कुल नहीं.

अगर हमने हस्तमैथुन किया है तब भी यही जवाब होता था.

यदि आप लड़के हैं तो इसका जवाब कुछ ऐसा होता था- 'हां, हर दिन.' ऐसा माना जाता है कि महिलाओं में कामुकता नहीं होती और पुरुष इस मामले में आगे होते हैं.

हस्तमैथुन करने पर 100 डॉलर जुर्माना!

बच्चों को हस्तमैथुन के बारे में बताने पर विवाद

बिना पूछे, चुपके से कंडोम हटाना रेप है?

इमेज कॉपीरइट HANNAH WITTON

किशोरी लड़की

क्या यह नुक़सानदेह है?

जो लड़कियां हस्तमैथुन करती हैं और उनमें से कई ऐसा करने के बाद शर्मिंदगी महसूस करती हैं. हालांकि लड़कों के लिए ऐसा नहीं है और वे अपनी सेक्स लाइफ़ को गोपनीय रखना चाहते हैं.

मैं उस किशोरी लड़की की तरह थी जिसके साथ व्यवहार में यह सब होता है. मैं मानती हूं कि मेरी किसी भी महिला दोस्त ने हस्तमैथुन नहीं किया होगा.

उस उम्र में मैंने भी नहीं किया. मैं सोचती थी कि यह अश्लील है और इससे मेरा गुप्तांग विकृत हो जाएगा.

मैं समय को पीछे लेकर जाना चाहती हूं जहां हना डरी हुई किशोरी है और वह अपने कमरे में जाकर ख़ुद को छूने के लिए कह रही है.

लेकिन ऐसा करने के लिए सालों इंतज़ार करना पड़ा. मैं जब तक 20 साल की नहीं हो गई तब तक ऐसा नहीं कर पाई. इस उम्र के बाद ही मुझे पहला यौन सुख मिला.

इस सुख के लिए ईश्वर और मेरे अंगों को शुक्रिया. किशोरावस्था में मैं इस चीज़ को नहीं जानती थी कि ख़ुद को उत्तेजित कैसे करना है.

मैं सोचती थी कि महिला हस्तमैथुन कुछ अजीब तरह से होता है.

हस्तमैथुन के ये हैं पांच फ़ायदे

समलैंगिक होने को ग़लत क्यों माना जाता है

इमेज कॉपीरइट BBC THREE

अलग-अलग तरीके

हस्तमैथुन लेकर हर कोई उंगली की बात करता था. फिर से मैं चाहती हूं और किशोरी हना से कह सकती हूं वह उन लड़कों को बता दे.

हमलोग यह क्यों नहीं कहते कि हमारे शरीर और उसके यौन सुख के लिए यह बुनियादी ज़रूरत है. मेरे लिए सेक्स उत्तेजना के मायने थे टेस्ट ट्यूब को कॉन्डम पहना देना.

हां, हमें एक चित्र के माध्यम से लिंग और वजाइना दिखाया गया था. लेकिन क्लाइटॉरिस के बारे में नहीं बताया गया था. आख़िर क्यों ज़्यादातर लोग अपने गुप्तांगों को जाने बिना बड़े होते हैं?

पॉर्न में केवल सेक्स उत्तेजना को महसूस किया जा सकता है. लेकिन हमें समझना चाहिए कि युवा अलग-अलग तरीकों से यौन सुख को पा सकते हैं.

ऐसा अपने शरीर में ही संभव है. युवाओं को अपने गुप्तांगों के बारे में जानना चाहिए. उन्हें मुख्यधारा के पॉर्न में ही सिमटकर नहीं रहना चाहिए.

लोग सेक्स में कई तरह की शर्म, लज्जा, भ्रम और खेद के साथ जीते हैं. हस्तमैथुन को लेकर दोस्तों के साथ खुलने के बाद मैंने पाया कि ज़्यादातर लोगों ने किशोरावस्था में हस्तमैथुन नहीं किया.

कहीं आप वर्चुअल सेक्स के आदी तो नहीं!

वो बातें जो सेक्स एजुकेशन के बारे में सिखाई जानी चाहिए

इमेज कॉपीरइट Science Photo Library

युवावस्था में

ज़ाहिर है मेरे साथ भी ऐसा ही था. जब मुझे इसके बारे में पता चला तब तो मैंने वल्वा की आकृति से सब कुछ समझा.

ज़्यादातर लोग युवावस्था में ऐसा नहीं करते हैं, लेकिन वे इसके बारे में बात भी नहीं करते. ज़्यादातर लोगों को लगता है कि यह ग़लत है.

वे दोषी महसूस करते हैं और ख़ुद से ही घृ़णा करने लगते हैं कि आख़िर ये सही कैसे हो सकता है?

जब मैं 15 साल की थी तो मेरी मां ने मुझसे कहा, "हना, तुम हस्तमैथुन करती हो? तुम्हें हस्तमैथुन करना चाहिए. यह किसी से सेक्स करने से पहले अपनी देह को जानने का सबसे बेहतरीन तरीका है."

इस पर मेरी प्रतिक्रिया थी- मां मुझसे ये सब बातें मत करो. लेकिन उन्होंने कम से कम कोशिश की और मुझे अब अच्छा लगता है. महिला हस्तमैथुन को लेकर चारों तरफ़ खामोशी पसरी रहती है.

यह एक नुक़सानदेह मान्यता का हिस्सा है कि महिलाएं कामुक नहीं होतीं- विपरीतलिंग रिलेशनशिप में पुरुष को सक्रिय होना चाहिए, कामुकता आक्रामक होनी चाहिए.

वहीं महिलाओं को पुरुषों के हिसाब से व्यवहार करना होता है.

...तो नपुंसकता की असली वजह कुछ और है!

सेक्स की लत से लड़ते शख़्स की कहानी

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

आत्मविश्वास

अगर एक महिला की अपनी निजी सेक्स लाइफ़ है तो वह हमेशा पहल करेगी और वह अपने यौन सुख के हिसाब से व्यवहार करेगी.

मैं इसके बकवास कहती हूं. महिलाएं भी कामुक होती हैं. महिलाएं भी पुरुषों की तरह कामुक होती हैं. सच यह है कि महिलाएं ज़्यादा कामुक होती हैं.

कभी-कभी हम अपने आप से सेक्स करना पसंद करते हैं. बिल्कुल अकेला. साथ में कोई नहीं.

इतने लंबे वक़्त के बाद अब मैं अपनी देह के साथ बिल्कुल सहज हूं. मैं ख़ुद से ख़ुद को यौन सुख दे सकती हूं.

मैं अपने पार्टनर से क्या चाहती हूं इसे कहने को लेकर आत्मविश्वास से भरी हूं.

हर किसी की कामुकता अलग-अलग तरीके की होती है और मेरा मानना है कि हस्तमैथुन सबसे बढ़िया तरीका है कि किस तरह से स्पर्श के ज़रिए आप काम सुख पाना चाहते हैं.

क्या बच्चों को पॉर्न की शिक्षा दी जानी चाहिए?

सेक्स में चरम सुख की कुंजी क्या है?

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

अच्छी नींद और तनाव मुक्ति

मैं सेक्शुअल चैरिटी ब्रूक की ऐम्बैस्डर हूं और यहां बेहतरीन ऑनलाइऩ संसाधन हैं. हम इन संसाधनों के ज़रिए पॉर्न और हस्तमैथुन को लेकर बढ़िया काम करते हैं.

इसके लिए सेक्स उत्तेजना को समझने के लिए क्लास होनी चाहिए. हस्तमैथुन आपको और आपकी सेक्स लाइफ को सशक्त बनाता है.

इससे आप अपने सेक्स पार्टनर को खुलकर बताते हैं कि क्या पसंद करते हैं.

इसमें आपको यौन सुख की अनुभूति होती है. आप अपनी देह को जितना जानते हैं उससे ज़्यादा और कोई नहीं जान सकता.

इससे कई तरह के सेहत से जुड़े फ़ायदे हैं- अच्छी नींद और तनाव मुक्ति. और आख़िर बात यह कि यह योग से बहुत आसान और सस्ता है.

ये बदलाव कहीं आपके बच्चे में भी तो नहीं हैं

बच्चों को हस्तमैथुन की शिक्षा पर विवाद

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे