1.7 करोड़ यूज़र्स का डेटा चोरी हुआ: ज़ोमाटो

रेस्त्रां के बारे में जानकारी देने वाली वेबसाइट ज़ोमाटो का कहना है कि हैकर्स ने उनके 1.7 करोड़ यूज़र्स का डेटा हैक कर लिया है.

कंपनी का कहना है कि हैक हुए डैटा में यूज़र्स की पर्सनल जानकारी, ईमेल आईडी और हैश्ड पासवर्ड शामिल हैं.

ज़ोमाटो के अनुसार पेमेंट संबंधी जानकारी को वो अलग जगह पर सेव करते हैं और इसीलिए वो सुरक्षित है.

'आईआईटी साइट की हैकिंग संभव तो ईवीएम क्यों नहीं'

साइबर हमले के पीछे उत्तर कोरिया तो नहीं?

कंपनी का कहना है कि जो यूज़र्स इस हैक से प्रभावित हुए हैं उन्होंने उन्हें ऐप और वेबसाइट दोनों जगहों से लॉग आउट कर दिया है और उनके पासवर्ड को दोबारा सेट कर दिया है.

भारतीय कंपनी ज़ोमाटो खाने की बेहतर जगहें बताने के लिए डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म का इस्तेमाल करता है.

दुनिया भर से करीब 12 करोड़ से अधिक लोग हर महीने ज़ोमाटो के मोबाइल ऐप और वेबसाइट पर आते हैं. यहां खान की जगहों के अलावा रात में खुली रहने वाली जगहों और रेस्त्रां के मेनू और तस्वीरें भी होती हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ज़ोमाटो का कहना है कि उन्हें 'हाल ही में' पता चला है कि उनके डेटाबस से 1.7 करोड़ ईमेल आईडी और हैश्ड पासवर्ड चुराए गए हैं.

"हैश्ड पासवर्ड को वापिस से सादे टेक्सट में बदला या डी-क्रिप्ट नहीं किया जा सकता. इसीलिए अगर आप यही पासवर्ड अन्य सेवाओं के लिए भी इस्तेमाल करते हैं तो हैक किए पासवर्ड अभी भी सुरक्षित ही हैं."

"लेकिन अगर आप हमारी तरह ही अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं तो हमारी राय है कि अगर आप अन्य सेवाओं पर अपना पासवर्ड बदल लें."

भारी साइबर ख़तरा, कैसे बचाएं कंप्यूटर और डेटा

अगर साइबर हमलावर फ़िरौती मांगें तो ना दें

ज़ोमाटो ने कहा, "पेमेंट संबंधी या क्रेडिट कार्ड संबंधी कोई जानकारी चोरी या लीक नहीं हुई है और ये सभी जानकारी हम 'बेहद सुरक्षित' डिजिटल वॉल्ट में रखते हैं."

कंपनी के अनुसार डेटा की चोरी के मामले में ऐसा लगता है कि "किसी व्यक्ति ने सुरक्षा में सेंध लगाई है."

ज़ोमाटो के दफ्तर दिल्ली और गुरुग्राम में है और साथ ही ये कंपनी 10,000 शहरों में भी काम करती है. लंदन और न्यूयॉर्क समेत ये कंपनी दुनिया के 24 देशों में भी फैली हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे