राजा चारी: नासा के लिए अंतरिक्ष जाने वाले तीसरे हिंदुस्तानी

राजा चारी, नासा इमेज कॉपीरइट Robert Markowitz - NASA - Johnson Space Center

अमरीका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने अब भारतीय मूल के एक और अंतरिक्ष यात्री को उड़ान भरने के लिए चुना है.

राजा चारी को 2017 के नासा के अंतरिक्ष कार्यक्रम की क्लास में हिस्सा लेंगे. बीबीसी हिंदी से बातचीत करते हुए राजा चारी ने कहा, "मुझे तो अब भी यक़ीन नहीं आ रहा. मुझे तो अब भी सपने जैसा लग रहा."

राजा चारी बताते हैं कि भारत से उनके परिवार वाले बधाई के संदेश भेजते रहे हैं. उनके पिता का निधन 2009 में हो गया था. उनके परिवार के बहुत से लोग अब भी भारत में रहते हैं.

भारतीय मूल की कल्पना चावला और सुनीता विलियम्स के बाद अब राजा चारी तीसरे भारतीय मूल के अंतरिक्ष यात्री होंगे. राजा चारी ने 2012 में सुनिता विलियम्स से मुलाकात भी की थी.

भारत को अंतरिक्ष में भेजने वाली महिलाएं

क्या चीनी अंतरिक्ष स्टेशन पृथ्वी पर गिरेगा?

इमेज कॉपीरइट Robert Markowitz - NASA - Johnson Space Center

अमरीका में भारतीय मूल के युवाओं और भारत में युवाओं के लिए प्रेरणा के बारे में राजा चारी कहते हैं, "यह तो अद्भुत होगा. मुझे तो बहुत खुशी होगी अगर मैं किसी के लिए प्रेरणा बनूं. मैं भी अपने रोल मॉडल से प्रेरित हुआ था. मैं उम्मीद करता हूं कि अगर एक व्यक्ति भी मुझसे प्रेरणा लेकर मेहनत और लगन से अपने पसंद के क्षेत्र में उन्नति करे तो मुझे बहुत खुशी होगी."

राजा चारी विस्कॉंसिन के मिलवौकी शहर में जन्मे और उन्होंने आयोवा के सीडर फ़ाल्स शहर में स्कूली पढ़ाई की. अब वह वाटरलू शहर में अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ रहते हैं.

चारी ने 1999 में अमरीकी वायु सेना अकादमी से एस्ट्रोनॉटिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री हासिल की. उसके बाद एमआईटी से एस्ट्रोनॉटिक्स और एयरोनॉटिक्स में मास्टर्स की डिग्री हासिल की.

लड़ाकू विमान जिसने अंतरिक्ष का रास्ता खोला

क्या भगवान से आपकी मुलाक़ात हुई थी अंतरिक्ष में?

इमेज कॉपीरइट Bill Ingalls/NASA

उसके बाद उन्होंने अमरीकी नौसेना टेस्ट पायलट स्कूल से कोर्स पूरा किया. राजा चारी ने अमरीकी वायु सेना अकादमी से भी पायलट की ट्रेनिंग हासिल की.

उन्होंने एफ़-35, एफ़-15, एफ़-16, एफ़-18 जैसे अमरीकी लड़ाकू विमानों की उड़ानें भरी हैं.

39 वर्षीय राजा चारी अमरीकी वायु सेना में लेफ़्टिनेंट कर्नल के पद पर हैं. अमरीकी वायु सेना के लिए राजा चारी ने इराक़ युद्ध के दौरान एफ़-15ई लड़ाकू विमान की उड़ानें भी भरी थीं.

2013 में पहली बार राजा चारी ने नासा के लिए कोशिश की थी लेकिन उस बार नहीं चुने गए थे.

वो नासा के अंतरिक्ष कार्यक्रम के एस्ट्रोनॉट्स की वर्ष 2017 की 22वीं क्लास के 12 ट्रेनीज़ में शामिल रहे हैं. इसमें सात पुरुष और पांच महिलाएं शामिल हैं. इन 12 लोगों को कुल 18 हज़ार 300 उम्मीदवारों में से चुना गया है.

उड़ा हुआ रॉकेट दोबारा उड़ा, नया प्रयोग

चार महीने बाद तीन यात्री अंतरिक्ष से लौटे

इमेज कॉपीरइट AFP PHOTO/NASA

नासा के ह्यूस्टन स्थित जॉनसेन अंतरिक्ष केंद्र में अगस्त महीने में राजा चारी अपनी दो साल की ट्रेनिंग शुरू करेंगे. उ

स दौरान विमान उड़ाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा, अंतरिक्ष में रहने और चलने की तैयारी कराई जाएगी.

इसके बाद नासा के विभिन्न कार्यक्रम जिनमें ओरायन अंतरिक्ष प्रोग्राम शामिल है, उसके लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा.

राजा चारी कहते हैं कि वह नासा के किसी भी अंतरिक्ष कार्यक्रम में भाग लेने को आतुर हैं, "मैं तो नासा के किसी भी कार्यक्रम में भाग लेने के लिए बहुत उत्सुक हूं. अंतरिक्ष में जाने का सोच कर ही मैं बहुत उत्साहित हो जाता हूं."

'इस रॉकेट से अंतरिक्ष में यात्री भेजेगा भारत'

भारत क्यों छोड़ रहा है इतने रॉकेट, 4 वजहें

इमेज कॉपीरइट TWITTER @DeptofDefense

राजा चारी का परिवार मूल रूप से भारत के आंध्रप्रदेश का रहने वाला है. उनके दादा वेंकट चारी हैदराबाद की उस्मानिया यूनिवर्सिटी में गणित के प्रोफ़ेसर थे.

चांद का आख़िरी मुसाफ़िर नहीं रहा

चांद की सैर पर जाएंगे दो मुसाफ़िर

उनके पिता श्रीनिवास चारी 1970 में भारत से अमरीका पढ़ाई करने आए थे और आयोवा के सीडर फ़ॉल्स में बस गए थे.

वह आख़िरी बार 2006 में भारत गए थे. राजा चारी अमरीकी लड़ाकू विमानों के एक दल में विमान लेकर बेंगलुरु एयर शो में शामिल होने गए थे.

उससे पहले भी वह कई बार भारत जा चुके हैं. उन्हें भारतीय खाना बहुत पसंद है. राजा चारी बताते हैं कि अब वह और उनका परिवार ह्यूस्टन में भी भारतीय रेस्तरां में खाने का स्वाद लेने के लिए आतुर रहता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे