कैसे तय होती है ईद की तारीख?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
रमज़ान और दिल्ली के पकवान

रमज़ान के आख़िर में एक महत्वपूर्ण धार्मिक त्योहार आता है, ईद.

लोग तैयार होकर नए कपड़े पहन कर अपने दोस्तों, परिवारवालों और करीबी लोगों से मिलते हैं. लज़ीज़ पकवानों से भरी दावतों का आयोजन किया जाता है.

लेकिन दुनिया भर में मनाए जाने वाले इस त्योहार की तारीख आख़िर कैसे निर्धारित की जाती है?

बीबीसी उर्दू के अयमान ख़्वाजा और आमिर राविश ने इसके तरीके को आसान शब्दों में समझाने की कोशिश की है.

'मैं उतनी ही मुसलमान, जितने मेरे पति हिंदू'

भाजपा की पत्रिका के संपादक को रोज़ा रखने पर अपने ही दोस्तों ने किया ट्रोल

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चंद्रमा की शक्ति

दुनिया भर में रहने वाले लगभग दो अरब मुसलमान रमज़ान महीने के आख़िर में चाँद देखते हैं. मुसलमान चंद्र कैलेंडर (लूनर कैलेंडर) को मानते हैं.

इस कैलेंडर में तारीख का निर्धारण चंद्रमा के अलग-अलग रूपों में दिखने के मुताबिक होता है. रमज़ान इस कैलेंडर के नौवें महीने में आता है.

हर साल इस कैलेंडर में लगभग ग्यारह दिन का अंतर आता है. चंद्र कैलेंडर मुसलमानों के लिए बेहद महत्वपूर्ण है.

इसी कैलेंडर और चंद्रमा को देखकर न केवल रमज़ान की तारीखों का निर्धारण किया जाता है बल्कि ईद किस दिन है, इसका फैसला भी चाँद देखकर ही किया जाता है.

कश्मीर डायरी: हत्याओं के बीच ईद का त्यौहार

रमज़ान ही नहीं, दिवाली में भी बिजली आए: मोदी

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption धर्मनिरपेक्ष देश तुर्की ईद के दिन का फैसला खगोल विज्ञान की मदद से करता है

रमज़ान में रोज़े रखने वाले मुसलमानों को अगर सौर कैलेंडर पर भरोसा होता तो दुनिया में हर जगह रमज़ान अलग-अलग समय और महीनों में मनाया जाता.

कुछ देशों में यह दिसम्बर में आता और कुछ देशों इसे जून में मनाते. लेकिन चंद्र कैलेंडर के हिसाब से सारे मुसलमान दुनिया भर में रमज़ान एक साथ मनाते हैं.

न केवल एक साथ बल्कि बदलती तारीखों की वजह से उन्हें अलग अलग मौसम में रमज़ान का अनुभव होता है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
श्रीनगर में रमज़ान का नज़ारा

तो समस्या क्या है?

ईद का दिन चंद्र कैलेंडर के दसवें महीने 'शव्वाल' की पहली तारीख़ को आता है. लेकिन इस्लाम में इस बात पर चर्चा होती आई है कि ईद का मूल दिन कौन सा है और इसका निर्धारण कैसे किया जाना चाहिए.

कई देशों में मुसलमान खुद चाँद देखने के बजाय देश के उन अधिकारियों पर निर्भर करते हैं जिन्हें चाँद देखने की ज़िम्मेदारी सौंपी जाती है.

जबकि कुछ लोग इस दिन का निर्धारण सौर कैलेंडर देखकर भी करते हैं. और कहीं कहीं ऐसा भी होता है कि लोग खगोल विज्ञान की मदद से नया चाँद देखते हैं.

पूरी दुनिया कभी भी एक ही दिन ईद नहीं मनाती. हालांकि ईद मनाने की तारीखों में ज़्यादा से ज़्यादा एक या दो दिन का अंतर होता है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption यूरोप में मुसलमान अपने समुदायों के नेताओं के निर्णय का पालन करते हैं

खगोल विज्ञान

उदाहरण के तौर पर सऊदी अरब में ईद कब होगी, इसका फ़ैसला तब किया जाता है जब आम जनता में से कुछ लोगों को चांद नजर आया हो.

कई मुस्लिम देशों सऊदी अरब की तय की हुई तारीख पर ही ईद मनाते हैं. लेकिन शिया आबादी वाले देश ईरान में ईद की तारीख का निर्धारण सरकार करती है.

जबकि इराक, जहां शिया और सुन्नी दोनों मुसलमान रहते हैं, वहां पर दोनों समुदायों के लोग अपने-अपने धार्मिक की नेताओं का अनुसरण करते हैं.

इराक में साल 2016 में पहली बार शिया और सुन्नी मुसलमानों ने एक साथ ईद मनाई थी.

जबकि धर्मनिरपेक्ष देश तुर्की ईद के दिन का फैसला खगोल विज्ञान की मदद से करता है. और यूरोप में मुसलमान अपने समुदायों के नेताओं के निर्णय का पालन करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे