'डोनल्ड ट्रंप की चली तो तबाह हो जाएगी धरती'

इमेज कॉपीरइट AFP

मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का कहना है कि पेरिस जलवायु समझौते से वापस हटने का अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप का फ़ैसला पृथ्वी को शुक्र ग्रह की तरह गर्म कर देगा और यहां ज़िंदगी तबाह हो जाएगी.

ये जलवायु परिवर्तन पर ऐसा असर डाल सकता है जिसकी भारपाई नहीं हो सकती है.

जलवायु समझौता तोड़ने पर विश्व भर में निराशा का माहौल, ट्रंप की निंदा

जलवायु करार से ट्रंप के पीछे हटने से दुनिया पर पड़ेगा ये 5 असर

उनका कहना है कि भविष्य में सबसे अच्छी उम्मीद दूसरे ग्रह पर जीवन की संभावना तलाशने में ही है.

इमेज कॉपीरइट AFP

'भरपाई संभव नहीं'

स्टीफन हॉकिंग ने अपने 75वें जन्मदिन पर बीबीसी न्यूज़ से खास बातचीत की.

उन्होंने बीबीसी से कहा, "हम उस मुकाम पर पहुँच गए है जहां से ग्लोबल वार्मिंग से होने वाली नुकसान की भरपाई संभव नहीं हो पाएगी. ट्रंप के फ़ैसले से पृथ्वी शुक्र बनने के कगार पर पहुँच जाएगी और पृथ्वी का तापमान ढाई सौ डिग्री तक पहुँच जाएगा और सल्फ्यूरिक एसिड की बारिश होने लगेगी."

इमेज कॉपीरइट EPA

"जलवायु परिवर्तन हमारे सामने एक बड़ा ख़तरा है और इस पर काम करें तो इसे हम रोक सकते हैं. जलवायु परिवर्तन के परिणामों से मुंह फेर कर और पेरिस जलवायु समझौते से वापस हाथ खींच कर डोनल्ड ट्रंप पर्यावरण का ऐसा नुक़सान करेंगे जिसकी भारपाई नहीं हो पाएगी. ये हमारे ख़ूबसूरत ग्रह, हमें और हमारे बच्चों को ख़तरें में डाल देगा."

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ट्रंप के पेरिस जलवायु संधि से बाहर जाने के फ़ैसले के बाद न्यूयॉर्क में पर्यावरण प्रेमियों ने प्रदर्शन किए. इस समझौते के लिए कुल 194 देशों ने सहमति जताई थी.

स्टीफन हॉकिंग गंभीर न्यूरॉन बीमारी से ग्रस्त हैं. इसकी वजह से वो चलने-फिरने और बोलने में सक्षम नहीं है.

ब्लैक होल्स और अंतरिक्ष की उत्पत्ति को लेकर उनके सिद्धांत ने ब्रह्मांड को लेकर समझ को काफी विकसित किया है.

बीबीसी के साथ इंटरव्यू में उन्होंने ट्रंप के फ़ैसले के संदर्भ में मानव जाति के भविष्य को लेकर चिंता जताई है.

इमेज कॉपीरइट EPA

डोनल्ड ट्रंप का फ़ैसला

पेरिस जलवायु समझौता वायुमंडल में कार्बन डाइ ऑक्साइड की मात्रा को कम करने का एक प्रयास है लेकिन डोनल्ड ट्रंप के अमरीकी राष्ट्रपति बनने के बाद अमरीका ने इस समझौते से अलग होने का फ़ैसला लिया है.

जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र के पैनल में भी जलवायु परिवर्तन के संभावित ख़तरों को लेकर अगाह किया गया है.

जब स्टीफन हॉकिंग से पूछा गया कि क्या कभी पर्यावरण से जुड़ी समस्या का समाधान हो सकेगा, तो इस पर वो निराशा जताते हुए कहते हैं कि धरती पर मानव प्रजाति के दिन गिने-चुने बचे रह गए हैं.

"मुझे डर है कि विकास के क्रम में इंसान के जीन में लालच और उग्रता आ गई है. इंसान के संघर्ष में कमी आने के कोई लक्षण नहीं दिख रहे हैं. सैन्य तकनीक और जन संहारक हथियारों का विकास विनाशकारी है. मानव प्रजाति के ज़िंदा रहने की उम्मीद अंतरिक्ष में इंसानों की कॉलोनियों के विकसित होने में है."

इमेज कॉपीरइट AFP

जब उनसे पूछा गया कि वो अपनी ज़िंदगी की उपलब्धियों को कैसे देखते हैं.

वो कहते हैं, "मैंने कभी नहीं उम्मीद की थी कि मैं 75 साल तक जी पाऊंगा. इसलिए मैं बहुत अच्छा महसूस करता हूं कि मैं आज अपनी जीवन की उपलब्धियों पर बात कर सकता हूँ. मुझे लगता है कि मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि यह होगी कि ब्लैक होल्स पूरी तरह से ब्लैक नहीं हैं."

वो आगे बताते हैं, "जब 21 साल की उम्र में मेरी बीमारी के बारे में पता चला तो मुझसे कहा गया कि ये बीमारी मेरी दो या तीन सालों में जान ले लेगी. अब 54 सालों के बाद भी भले ही व्हील चेयर पर ही सही मैं काम कर रहा हूं और साइंटिफिक पेपर्स लिख रहा हूँ. लेकिन यह एक बड़ा संघर्ष रहा है जो मैं अपने परिवार, सहकर्मियों और दोस्तों की मदद से कर पाया हूँ."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)