अगर आपका बच्चा भी दांत पीसता है तो...

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अगर आपके बच्चों में भी दांत पीसने की आदत है तो बहुत संभव है कि स्कूल में उन पर धौंस (बुलिंग) जमाया जा रहा हो. यह बात एक नए शोध में सामने आई है.

मुंह के स्वास्थ्य से संबंधित एक चैरिटी ने कहा है कि माता-पिता और स्कूल को इस समस्या के बारे में पता होना चाहिए. यह तनाव और चिंता से गुजर रहें वयस्कों को भी प्रभावित कर सकता है.

दांत पीसने से सिर दर्द, दांत ख़राब होने और आधी-अधूरी नींद की समस्या भी हो सकती है.

क्या आपका बच्चा साइबर बुलिंग से सुरक्षित है?

क्या दांत ख़ुद ब ख़ुद ठीक हो सकते हैं

विशेषज्ञों का मानना है कि ऐसे मामलों में इजाफा भी देखा गया है.

यह शोध जर्नल ऑफ़ ओरल रिहैबिलिटेशन में प्रकाशित हुआ है. यह शोध ब्राज़ील में तीन सौ से अधिक किशोरों पर किया गया है.

नुकसान

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption दांत पीसने का शोर इस तरह की कटाई की जैसी हो सकती है

इस शोध के नतीजों के मुताबिक़ स्कूल में बुलिंग के शिकार 13 से 15 साल के बच्चों में दांत पीसने की आदत चार गुना अधिक पाई गई है.

इनमें सोने के दौरान भी दांत पीसने की आदत देखी गई है. बुलिंग के शिकार 65 फ़ीसदी बच्चों में यह आदत देखी गई है जबकि जो बच्चे बुलिंग के शिकार नहीं थे उनमें सिर्फ़ 17 फ़ीसदी में यह आदत देखी गई.

ओरल हेल्थ फाउंडेशन के डॉक्टर नीगेल कार्टर ने कहा, "इस मामले में दांत पीसने से अधिक यह महत्व की बात है कि यह बच्चे की मानसिक स्थिति को दिखाता है और शुरुआती दौर में ही बुलिंग को पकड़ने में हमारी मदद करता है."

उन्होंने बताया कि सोने के दौरान दांत पीसना नुकसानदायक हो सकता है लेकिन अक्सर लोग इस बात को लेकर अनजान रहते हैं कि वो ऐसा कर रहे थे.

दांत पीसने से दांत की गंभीर बीमारियां हो सकती हैं. इससे दांतों में झनझनाहट, दांतों का घीसना, दांत टूटना और चेहरे और जबड़ों में दर्द जैसी शिकायत हो सकती है.

डॉक्टर नीगेल कार्टर बताते हैं कि दांत पीसना चबाने से 40 गुना अधिक ताकत वाली प्रक्रिया होती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)