डीएनए के धागों से वंश की तलाश

क्रोमोसोम
Image caption क्रोमोसोम के ज़रिए लोगों के अपने वंश का पता चल रहा है

बीबीसी को पता चला है कि अमरीका और पश्चिमी यूरोप में गोद लिए गए पुरुष डीएनए जाँच से अपने वंशजों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं और वाई क्रोमोसोम की मदद से इसमें सफलता भी पा रहे हैं.

ये लोग इस तथ्य का सहारा ले रहे हैं कि एक जैसे उपनाम रखने वाले लोगों के बीच कभी-कभी आनुवांशिक समानताएँ मिल जाती हैं.

डीएनए के 'डाटाबेस' से ये उन पुरुषों की पहचान करते हैं जिनकी आनुवांशिक पहचान उनसे भी मेल खाती हों और तब वो यह देखते हैं कि क्या उनके अंतिम नाम भी एक हैं.

इससे उनको यह पता चल सकता है कि उनके वंशजों ने किस तरह के उपनाम रखे होंगे. एक जैसे उपनाम वाले लोगों में जो आनुवांशिक समानताएँ मिलती हैं, वह वाई क्रोमोसोम पर पाया जाता है.

वाई क्रोमोसोम पर मिलने वाला यह गुण एक उपनाम की तरह थोड़े-बहुत बदलाव के साथ बाप से बेटे को मिलता जाता है.

इस तरह के वंशानुक्रम के कारण एक जैसे उपनाम वाले लोगों के वाई क्रोमोसोम पर मौजूद उनके आनुवांशिक पहचान के निशान भी आपस में मेल खा सकते हैं.

'ट्री डीएनए' का 'वाईसर्च'

आनुवांशिक जाँच करने वाली अमरीकी कंपनी 'ट्री डीएनए' के पास सवा लाख लोगों के उपनाम और उनके आनुवांशिक गुणों का रिकॉर्ड है और इस आंकड़े को कंपनी ने 'वाईसर्च' नाम से इंटरनेट पर डाल रखा है.

कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी बेनेट ग्रीनस्पैन ने बताया कि उनके पास जिन लोगों के आनुवांशिक 'डाटाबेस' है उनमें कम से कम 30 पुरुषों ने इसी तरह से अपने 'जीववैज्ञानिक उपनाम' का पता लगा लिया.

ग्रीनस्पैन कहते हैं, "हमारे पास आनुवांशिक जाँच के लिए आने वाले गोद लिए गए पुरुषों की संख्या बढ़ रही. इन लोगों ने जाँच के नतीजों से कई लोगों को उनके उपनाम के साथ खोज निकाला. ऐसा नहीं हो सकता कि उन लोगों ने दूसरे उपनाम वाले किसी और को ही नहीं चुन लिया होगा."

वे कहते हैं, "इससे उन्हें इसका अंदाजा हो सकता है कि उन्हें अपनी जन्मभूमि की तलाश किस शहर से शुरू करनी चाहिए."

डीएनए की जाँच से किसी के भी वाई क्रोमोसोम पर मौजूद 67 आनुवांशिक गुणों का पता चलता है.

बोलते नतीजे

ग्रीनस्पैन का कहना है कि किसी और तरीक़े से गोद लिए कुछ पुरुषों के लिए उन्हें पैदा करने वाले का उपनाम पता कर पाना बहुत मुश्किल या असंभव है.

वे कहते हैं, "डीएनए जाँच का यह असली चमत्कार है. वाई क्रोमोसोम एक रामबाण की तरह काम कर सकते हैं."

एडवर्ड सेरूलो नार्वे में कम्प्यूटर विशेषज्ञ हैं जिन्हें डीएनए जाँच से पहले ही अपने पिता का उपनाम पता था लेकिन अपनी संतुष्टि के लिए उन्होंने यह जाँच करवा ली और वाईसर्च से जो 22 नाम उनके आसपास मिले, उनमें 11 का उपनाम उनके पिता के उपनाम जैसा था.

डालास के 37 वर्षीय विज्ञापन लेखक चैंडलर बार्बर को जन्म के बाद ही गोद ले लिया गया था.

जब उन्होंने अपने वंशजों का पता लगाने के लिए इस जाँच का सहारा लिया तो उनके पास छह नाम थे और सारे उपनाम एक जैसे थे.