एंडेवर का सफल प्रक्षेपण

अमरीकी अंतिरक्ष यान एंडेवर का नासा ने सफल प्रक्षेपण किया है. ख़राब मौसम और ईंधन रिसने के कारण पाँच बार फ़्लोरिडा के केनेडी अंतिरक्ष केंद्र से इसका प्रक्षेपण टालना पड़ा था.

अब छठी बार नासा को इसमें सफलता मिली है.

अंतरिक्ष यात्री अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद में 11 दिन बिताएँगे और जापानी शोध प्रयोगशाला पर काम ख़त्म करेंगे.

अगर गुरुवार तक एंडेवर का प्रक्षेपण नहीं हो पाता तो फिर इस महीने के अंत तक इंतज़ार करना पड़ता.

प्रक्षेपण के समय लॉन्च डाइरेक्टर पीट निकोलेंको ने कहा, "मौसम अभी ठीक है, उड़ान का ये सही समय है, शुभ कामनाएँ."

जवाब में मिशन कमांडर मार्क पोलंस्की ने कहा," हम जाने के लिए तैयार हैं. हम अपने साथ आप सबको एक बेहतरीन मिशन पर ले जाने वाले हैं."

अंतरिक्ष केंद्र

यान में सात लोगों की टीम है जिसमें छह अमरीकी और कनाडा की एक महिला यात्री शामिल है जो यान की रॉबॉटिक आर्म को चलाएगीं.

शुक्रवार को जब ये लोग आईएसएस पहुंचेगे तो वहाँ कुल 13 लोग हो जाएँगे जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है.

इस दौरान अंतरिक्ष यात्री जापानी प्रयोगशाला किबो में एक प्लैटफ़ॉर्म को जोड़ेंगे जिसका इस्तेमाल उन प्रयोगों में किया जाएगा जहाँ पदार्थों को अंतरिक्ष के पर्यावरण में रखने की ज़रूरत होती है. यात्री रखरखाव का काम भी करेंगे.

एंडेवर के ज़रिए अमरीकी यात्री टिम कोपरा भी जा रहे हैं जो वहाँ लंबे समय तक रहेंगे और तीन महीने से ज़्यादा आईएसएस में काम कर रहे जापान के कोइजी वकाटा को वापस लाया जाएगा.

अब अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र का आकार चार कमरों वाले घर जितना हो गया है. पिछले एक दशक से इसका निर्माण चल रहा है. इस पर 100 अरब डॉलर खर्च हो रहा है और 16 देश मिलकर इस पर काम कर रहे हैं.

अंतरिक्ष यानों की ये 127वीं उड़ान है और एंडेवर ने 23वीं बार उड़ान भरी है. 2009 में एंडेवर तीसरी बार अंतरिक्ष में भेजा गया है.

2010 में एंडेवर के सेवा लेनी बंद कर दी जाएगी.

संबंधित समाचार