एड्स में प्रभावी केला

केला
Image caption केले में मौजूद प्रोटीन दो एचआईवी दवाओं की तरह ही प्रभावी है

वैज्ञानिकों का कहना है कि केले में पाए जाने वाला एक रसायन एचआईवी से निपटने में मददगार साबित हो सकता है.

मिशिगन विश्वविद्यालय के एक शोध दल का कहना है कि केले में मौजूद प्रोटीन एचआईवी दवाओं की तरह ही प्रभावी हैं.

वैज्ञानिकों का कहना है कि इसका इस्तेमाल एचआईवी संक्रमण के ख़िलाफ़ किया जा सकता है.

ये शोध जैव रसायन की एक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.

बीबीसी के विज्ञान संवाददाता का कहना है कि केले के औषधि की तरह इस्तेमाल में अभी वर्षों लगेंगे लेकिन यदि ये प्रयोग सफल रहा तो इससे अनेक लोगों की जिंदगी बच सकेगी.

अनेक कैरिबियाई और लातिनी अमरीकी देश केले का बड़े पैमाने पर उत्पादन करते हैं.

इनमें से कई ऐसे देश हैं जिनकी अर्थव्यवस्था केला निर्यात पर ही निर्भर करती है.

एचआईवी और एड्स का विस्तार दुनियाभर के लिए चिंता का विषय है.

संयु्क्त राष्ट्र का मानना है कि एड्स और एचआईवी से जुड़े कार्यक्रम महिलाओं की ज़रूरतों पर केंद्रित नहीं हैं.

दक्षिण अफ़्रीका बड़ी संख्या में लड़कियां इसकी चपेट में आ रही हैं.

संबंधित समाचार