मोबाइल फ़ोन बचाएगा गोरिल्ला को?

गोरिल्ला
Image caption विरुंगा नेशनल पार्क में अब सिर्फ़ 211 गोरिल्ला बचे हैं

मोबाइल फ़ोन की एक ऐपलिकेशन का इस्तेमाल कॉंगो में विलुप्त हो रहे पहाड़ी गोरिल्ला को बचाने के लिए किया जाएगा.

आई-फ़ोन और आई-पैड में ‘आई-गोरिल्ला’ नाम की एक नई ऐपलिकेशन जोड़ी गई है. इसकी मदद से कॉंगो के विरुंगा राष्ट्रीय उद्यान में पाए जाने गोरिल्लाओं के जीवन पर नज़र रखी जा सकेगी.

इसका इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ताओं को क़रीब चार डॉलर की क़ीमत चुकानी होगी.

कॉंगो में पाए जाने वाले गोरिल्ला की आबादी वनों के घटने, अवैध शिकार, बीमारी और देश में चल रही अस्थिरता की वजह से काफ़ी कम हो गई है.

अब इनकी आबादी 720 तक सिकुड़ कर रह गई है. इनमें से 211 विरुंगा के राष्ट्रीय उद्यान में रहते हैं.

मोबाइल फ़ोन का ये नया फ़ीचर विरुंगा नेशनल पार्क ने ही शुरु किया है. इस सुविधा का इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ता अपने लिए एक गोरिल्ला परिवार का चयन करने के बाद लगातार उसके बारे में जानकारी ले सकते हैं.

उपभोक्ता इस परिवार की तस्वीरें,वीडियो और उनके जीवन के बारें रिपोर्ट भी पढ़ सकते हैं.

क़रीब 7800 वर्ग किलोमीटर का विरुंगा राष्ट्रीय उद्यान डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ़ कोंगो, रवांडा और उगांडा में फ़ैला हुआ है. इसे 1979 में यूनेस्को ने विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया था.

संबंधित समाचार