क्लोन गाय के बछड़े का माँस बिका

गाय (फ़ाइल फ़ोटो)
Image caption क्लोन गाय से पैदा हुए दो बछड़ों को माँस के लिए बेचा जा चुका है

ब्रिटेन की फ़ूड स्टैंडर्ड एजेंसी (एफ़एसए) ने इस बात की पुष्टि की है कि अमरीका की एक क्लोन गाय के बछड़े का माँस पिछले साल बेचा गया था.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि इस मीट को खाने से किसी प्रकार की बीमारी हो सकती है या नहीं इसके बारे में अभी तक कुछ कहा नहीं गया है. लेकिन 1990 में हुई ‘मैड काऊ’ बीमारी के बाद से ब्रितानी लोग ऐसे मीट को खाने से बचना चाहते हैं.

फ़ूड स्टैंडर्ड एजेंसी ने बताया है कि उसने दो बैलों की पहचान की है जिनका जन्म ब्रिटेन में हुआ था और वे अमरीका की एक क्लोन गाय से पैदा हुए थे.

इन दोनों को मारा जा चुका है जिनमें से एक का माँस बिक्री के लिए उपलब्ध था.

फ़ूड स्टैंडर्ड एजेंसी ने कहा है कि क्लोन गाय के बछड़े का मास बेचने के लिए कोई औपचारिक अनुमति नहीं दी गई थी.

जांच

अभी तक क्लोन जानवरों के माँस और दूध पर जितने भी अध्ययन हुए हैं उनमें सामने आया है कि क्लोन और साधारण पशुओं के माँस और दूध में कोई फ़र्क नहीं होता है.

लेकिन यूरोप की फ़ूड सेफ़्टी एजेंसियों का मानना है कि जब तक इस बारे में विस्तार से जानकारी नहीं मिल जाती तब तक इस तरह के खाने को सामान्य नहीं मानना चाहिए.

यानि क्लोन पशुओं से बनी चीज़ों को जो भी बेचना चाहता है, उसके लिए ज़रूरी है कि वो फ़ूड स्टैंडर्ड एजेंसी से अनुमति ले.

ग़ौरतलब है कि अमरीका की बायोतकनीक से जुड़ी कंपनियां उन पशुओं को क्लोन कर रही हैं जिनका दूध और माँस उच्च श्रेणी का होता है. कंपनियां इन्हें प्रजनन के लिए इस्तेमाल करती हैं.

जानकारों का मानना है कि जिस तरह अमरीका में ये उद्योग फल फूल रहा है, उससे आने वाले दिनों में खाद्य अधिकारियों के लिए क्लोन जानवरों के भ्रूण यूरोप के किसानों को बेचने से रोक पाना मुश्किल हो जाएगा.

संबंधित समाचार