बिना ड्राइवर के चलेगी गूगल की कार

गूगल की कार
Image caption बिना ड्राइवर के चलती है कार.

इंटरनेट की दिग्गज कंपनी गूगल के इंजीनियरों ने अमरीका में एक बिना ड्राइवर के चलने वाली कार का परीक्षण शुरु कर दिया है.

अमरीका के स्टेनफ़ॉर्ड विश्वविद्यालय में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग और कम्पयूटर विज्ञान के प्रोफ़ेसर सबेस्टियन थ्रून के मुताबिक इस कार की छत पर वीडियो कैमरे लगे हुए हैं, साथ ही कार में रेडार और 'लेज़र फ़ाइडर' भी फ़िट किया गया है.

ये कार इन उपकरणों के ज़रिए सड़क पर चल रहे ट्रैफ़िक पर निगाह रखेगी.

हालांकि ये कार बिना ड्राइवर के केलिफ़ोर्निया की सड़कों पर दौड़ी लेकिन इसमें एक प्रशिक्षित चालक हमेशा मौजूद रहा जो कभी भी संकट के समय कार को संभाल सकता था.

गूगल को उम्मीद है कि भविष्य में ये कार सड़कों पर ट्रैफ़िक को कम करने और दुर्घटनाओं की संख्या पर कमी लाने में कारगर सिद्ध होगी.

भविष्य की कार

सॉफ़्टवेयर इंजीनियर सबेस्टियन थ्रून ने कहा कि बिना ड्राइवर की इन कारों ने टेस्ट के दौरान क़रीब एक लाख 30 हज़ार मील का फ़ासला तय किया है.

जिन कारों को बिना चालक के टेस्ट किया है, वे सेन फ़्रेंसिस्को के मशहूर गोल्डन गेट पुल से होते हुए तहोई झील तक सही-सलामत पहुंचीं हैं.

इंजीनियरों ने न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया है कि अब तक हुए परीक्षणों के दौरान कोई दुर्घटना नहीं हुई है, बस एक बार जब बिना ड्राइवर की कार ट्रैफ़िक सिग्नल पर खड़ी थी तब उसे पीछे से टक्कर लगी है.

प्रोफ़ेसर सबेस्टियन थ्रून ने अपने 'गूगल ब्लॉग' पर लिखा है कि इस परियोजना में सुरक्षा उनकी प्राथमिकता है.

ब्लॉग में थ्रून विश्व स्थास्थ्य संगठन के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहते हैं कि दुनिया भर में हर वर्ष 12 लाख से ज़्यादा लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे जाते हैं, और ये संख्या कम की जा सकती है और ऐसा किया भी जाना चाहिए.

संबंधित समाचार