डिस्कवरी का अंतिम अभियान

इमेज कॉपीरइट none

अमरीकी अंतरिक्ष यान डिस्कवरी को केनेडी स्पेस सेंटर से आख़िरी बार लॉन्च किया गया है.

ये डिस्कवरी का अंतिम अभियान है. जब ये यान धरती पर लौटेगा तो इसे रिटायर कर दिया जाएगा और म्यूज़ियम में रखा जाएगा.

स्थानीय समयानुसार जब शाम को चार बजकर 53 मिनट पर इसे छोड़ा गया तो नासा के केंद्र की ओर जाने वाली सड़कों पर लोगों की भारी भीड़ थी. हर कोई इतिहास का हिस्सा बनना चाहता था.

डिस्कवरी यान 11 दिन के अभियान पर गया है और ये अपने साथ ह्मूमनॉयड रोबोट लेकर गया है जिसे अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र पहुंचाया जाएगा.

1984 में लॉन्च हुए डिस्कवरी यान का ये 39वां अभियान है और बाकी यानों के मुकाबले इसने अंतरक्षि में सबसे ज़्यादा समय बिताया है.

पिछले तीस सालों में इसने हबल टेलीस्कोप को स्थापित किया है और नासा के अंतरिक्ष कार्यक्रमों में मुख्य भूमिका निभाई है.

डिस्कवरी यान दो हफ़्ते बाद जब धरती पर वापस लौटेगा तब तक इसने 230 मिलियन किलोमीटर का फ़ासला तय लिया होगा जो सूरज से धरती के फ़ासले से भी ज़्यादा है ( 149 मिलियन किलोमीटर)

एंडेवर और अटलांटिस के अभियान भी जल्द ही ख़त्म हो जाएगें. इसके बाद अमरीका की योजना है कि वो अपने अंतरिक्षयात्रियों को रूस के सोयुज़ रॉकेट पर अंतरिक्ष में लेकर जाएगा.

उम्मीद की जा रही है कि बाद में अमरीकी कंपनियाँ भी ये सुविधा देने के लिए ख़ुद को लैस कर लेंगी.

संबंधित समाचार