फ़ेसबुक पर आत्महत्या अलर्ट सिस्टम

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

सोशल नेटवर्किंग साइट फ़ेसबुक ऐसी प्रणाली लॉन्च कर रहा है जिसकी मदद से लोग अपने ऐसे दोस्तों के बारे में रिपोर्ट कर सकते हैं जो उनकी नज़र में आत्महत्या करने के बारे में सोच रहे हैं.

ये सुविधा समैरिटन्स नाम की संस्था के साथ मिलकर शुरु की गई है. इस संस्था का कहना है कि प्रणाली के परीक्षण के दौरान कई लोगों ने इसका उपयोग किया है.

ये संस्था ऐसे लोगों को भावनात्मक समर्थन देती है जो अवसाद या मुश्किल दौर से गुज़र रहे हों जिसमें ऐसे लोग भी शामिल हैं जो आत्महत्या कर सकते हैं.

अगर आप अपने किसी दोस्त को लेकर चिंतित हैं तो फ़ेसबुक पर अपनी चिंताओं के बारे में लिखते हुए एक फ़ॉर्म भर सकते हैं. ये फॉर्म साइट के मॉडरेटरों तक पहुँचा दिया जाता है.

आपको फ़ेसबुक के उस पेज का यूआरएल देना होगा जहाँ आत्महत्या करने संबंधी संदेश लिखा हुआ है. इसके अलावा यूज़र का नाम और वो किस किस नेटवर्क का सदस्य है...ये जानकारियाँ भी देनी होंगी.

आत्महत्या संबंधी संदेशों के बारे में फ़ेसबुक की टीम को अलर्ट किया जाएगा.

जागरुकता अभियान

दरअसल हाल फिलहाल में कई बार ऐसी ख़बरें आई हैं जहाँ फ़ेसबुक इस्तेमाल करने वाले कई लोगों ने आत्महत्या करने के बारे में लिखा है.

फ़ेसबुक का कहना है कि अगर उसे लगता है कि कोई व्यक्ति ख़ुद को क्षति पहुँचा सकता है और मामला गंभीर है तो पुलिस को बता दिया जाता है.

तीन महिने से इस नई सुविधा का परीक्षण चल रहा था जिस दौरान इस बारे में कोई पब्लिसिटी नहीं की गई थी. समैरिटन्स का कहना था कि उसे इस दौरान कई अलर्ट मिले और कोई भी अफ़वाह का मामला सामने नहीं आया.

उम्मीद की जा रही है कि इस नई पद्धति से आत्महत्या के मामले रोकने में मदद मिलेगी.

दरअसल पिछली क्रिसमस के दिन ब्रिटेन की एक महिला सिमोन की ड्रग्स लेने से मौत हो गई थी. उसने फ़ेसबुक पेज पर लिखा था कि वो आत्महत्या करना चाहती है.

सिमोन के कई दोस्तों ने इस संदेश पर टिप्पणी की थी लेकिन किसी ने भी आगे किसी को सचेत नहीं किया. समरैटिन्स के मुताबिक लोगों में जागरुकता फैलाने के लिए नई प्रणाली शुरु की गई है.

संबंधित समाचार