समलैंगिकों में कैंसर अधिक?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अमरीका में बड़ी संख्या में समलैंगिकों में कैंसर की समस्या पाई जा रही है.

अमरीका में किए गए एक शोध में पता चला है कि समलैंगिक पुरुषों में सामान्य पुरुषों की तुलना में कैंसर होने की संभावना अधिक होती है.

इस शोध में कैलिफोर्निया के एक लाख 20 हज़ार से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया जिसके बाद से समलैंगिक पुरुषों के लिए विशेष स्वास्थ्य सहायता देने की मांग बढ़ी है.

कैंसर नामक पत्रिका में छपे इस शोध के अनुसार समलैंगिक पुरुषों में कैंसर होने के बाद स्वास्थ्य भी अधिक ख़राब हो जाता है.

कैंसर रिसर्च यूके का कहना है कि इस दिशा में और शोध की ज़रुरत है क्योंकि समलैंगिकों और सामान्य लोगों में कैंसर को लेकर इतनी अलग संभावनाओं के कारणों का पता नहीं चल पाया है.

वर्ष 2001, 2003, और 2005 में कैलिफोर्निया स्वास्थ्य इंटरव्यू सर्वे में क़रीब 3,690 पुरुषों और 7,252 महिलाओं से बात की गई थी. इसमें पता चला कि इन सभी ने जीवन के किसी न किसी मोड़ पर कैंसर का सामना किया है.

ताज़ा शोध में 1,22, 345 लोगों से बात की गई जिसमें 1493 पुरुष और 918 महिलाएं थीं जिन्होंने खुद को समलैंगिक बताया जबकि 1116 महिलाओं ने खुद को उभयलिंगी (bisexual) करार दिया.

पिछले एक दशक के परिणामों के अनुसार समलैंगिक लोगों में कैंसर होने की संभावना सामान्य लोगों से दुगुनी पाई गई.

हालांकि ये मामला महिलाओं में इस तरह का नहीं पाया गया.

सर्वे का कहना है कि उन्होंने सिर्फ़ उन लोगों से ही बात की है जो कैंसर से बच गए.इसलिए ये नहीं कहा जा सकता है कि कैंसर से पीड़ितों की सही संख्या आ पाई है.

उनका कहना है कि कई कैंसर पीड़ित सर्वे से पहले ही मर चुके हैं और कई लोग इतने बीमार थे कि वो सर्वे में हिस्सा नहीं ले पाए.

बोस्टन यूनिवर्सिटी की पब्लिक हेल्थ विभाग की डॉक्टर उलरिके बोयमर का मानना है कि इस सर्वे से यह साफ साफ कहना उचित नहीं होगा कि समलैंगिक लोगों में कैंसर की संभावना ज़्यादा होती है क्योंकि इसके पीछे के कारण अत्यंत जटिल हो सकते हैं.

उन्होंने भी कहा कि इस दिशा में और शोध किए जाने की ज़रुरत है.

हालांकि टेरेंस हिगिंस ट्रस्ट के जैसन वारिनर का कहना है कि समलैंगिक लोगों में एचआईवी का खतरा अधिक होता है और ये भी हम जानते हैं कि कुछ एचआईवी कैंसर को बढ़ावा भी देते हैं.

संबंधित समाचार