एचआईवी के ख़ात्मे पर शोध

एचआईवी

एचआईवी के नए इलाज पर शोध हो रहा है

अमरीका में वैज्ञानिक एचआईवी का नया इलाज विकसित कर रहे हैं, जिससे वायरस को पूरी तरह शरीर से ख़त्म किया जा सके.

अभी एचआईवी का इलाज एंटी रेट्रोवायरल दवाएँ हैं. लेकिन ये दवा काफ़ी महंगी है. मरीज़ को ये दवाएँ आजीवन लेनी होती है.

अब शोधकर्ता एचआईवी के स्थायी समाधान का रास्ता तलाश रहे हैं. पिछले 30 वर्षों में एचआईवी के इलाज की दिशा में काफ़ी प्रगति हुई है.

एंटी रेट्रोवायरल दवाओं से मरीज़ में ये वायरस उस स्तर तक दबाए जा सकते हैं, जहाँ से इनका पता तक नहीं लगाया जा सकता है.

काम

लेकिन समस्या ये है कि दवाएँ बंद करने की सूरत में ये वायरस फिर आ सकते हैं. अब शोधकर्ता इस वायरस को शरीर से पूरी तरह निकालने पर काम कर रहे हैं.

कैलिफ़ोर्निया यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर जेरोम ज़ैक का कहना है कि अब इस पर काम किया जा रहा है कि इन वायरसों को उकसा कर इनके छिपने वाले स्थान से निकाला जाए और फिर इन्हें ख़त्म किया जाए.

उन्होंने कहा कि अभी इस पर प्रयोग चल रहा है और दुनिया के कई प्रयोगशालाओं में इस पर काम चल रहा है.

हालाँकि जानकारों का मानना है कि इस शोध में किसी निष्कर्ष तक पहुँचने में वर्षों लग सकते हैं.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.