उल्लू ने अपना निशान छोड़ा

ख़िड़की पर उल्लू (फ़ाईल फ़ोटो)

ब्रिटेन में एक घर की ख़िड़की पर उल्लू के निशान

ब्रिटेन के कंब्रिया प्रांत में एक अजीबो ग़रीब घटना घटी है. ख़बरों के मुताबिक़ कंब्रिया प्रांत के केंडल शहर के एक घर की खिड़की पर एक उल्लू के निशान पाए गए हैं.

उस घर की मालकिन सैली आर्नॉल्ड जब घर लौटीं तो उन्होंने अपनी खिड़की पर एक अजीब नज़ारा देखा.

उनकी खिड़की पर उल्लू की आंखों, चोंच और पंख की छाप साफ़ नज़र आ रही थी.

विशेषज्ञों के अनुसार इस तरह के निशान उल्लूओं में पाए जाने वाले एक ख़ास क़िस्म के पाउडर से बने हैं.

ये पाउडर उल्लूओं के पंखों की सुरक्षा करते हैं.

हमारी पहली चिंता थी कि उल्लू ठीक है या नहीं और इसलिए हमलोगों ने ये देखने के लिए खिड़की खोली कि कहीं उल्लू अभी भी वहां है कि नहीं. लेकिन सैभाग्यवश वहां कोई उल्लू नहीं था इसलिए माना जा सकता है कि वो सिर में दर्द की वजह से वहां से उड़ गया होगा.

सैली आर्नॉल्ड, घर की मालकिन

सैली आर्नॉल्ड ने कहा कि उन्हें उल्लू कहीं नहीं दिखा, इसलिए अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि उल्लू को ज़्यादा चोट नहीं लगी होगी और वो उड़ गया होगा.

'सुरक्षित'

सैली आर्नॉल्ड को कहना था, ''हमारी पहली चिंता थी कि उल्लू ठीक है या नहीं और इसलिए हमलोगों ने ये देखने के लिए खिड़की खोली. लेकिन सैभाग्यवश वहां कोई उल्लू नहीं था इसलिए माना जा सकता है कि वो सिर में दर्द की वजह से वहां से उड़ गया होगा.''

ब्रिटेन में चिड़ियों की सुरक्षा के लिए काम करने वाली संस्था आरएसपीबी यानि रॉयल सोसाईटी फॉर द प्रोटेक्शन ऑफ़ बर्ड्स के विशेषज्ञों ने इस बात की पुष्टि की है कि आकार और बनावट के आधार पर कहा जा सकता है कि ख़िड़की पर अपना निशान छोड़ने वाला पक्षी पीले रंग वाला उल्लू ही था.

विशेषज्ञों के अनुसार दूसरे पक्षियों के मुक़ाबले पीले रंग वाले उल्लू घर के बग़ीचों में ज़्यादा पाए जाते हैं.

किसी घर की ख़िड़की पर किसी पक्षी के इस तरह के निशान ज़्यादा देखने को नहीं मिलते हैं लेकिन जिस तरह के निशान पए गए हैं उससे बिल्कुल स्पष्ट है कि वो किस तरह का पक्षी था.

वाल ऑस्बॉर्न, आरएसपीबी के एक वैज्ञानिक

आरएसपीबी के वाल ऑस्बॉर्न ने इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ''किसी घर की ख़िड़की पर किसी पक्षी के इस तरह के निशान ज़्यादा देखने को नहीं मिलते हैं लेकिन जिस तरह के निशान पाए गए हैं उससे बिल्कुल स्पष्ट है कि वो किस तरह का पक्षी था.''

ऑस्बॉर्न के अनुसार, पक्षी के लिए ये बहुत तकलीफ़देह रहा होगा लेकिन सौभाग्यवश ऐसा लगता है कि पक्षी बच गया क्योंकि ऑर्नॉल्ड दंपति को उल्लू आस पास कहीं नहीं दिखा. ज़्यादातर पक्षी उतने भाग्यशाली नहीं होते हैं.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.