मलेरिया के टीके ने उम्मीदें बढ़ाई

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption सात अफ़्रीकी देशों के बच्चों पर ये परीक्षण किया गया

अफ़्रीका में मलेरिया के एक नए टीके ने परीक्षण के दौरान काफ़ी उम्मीदें जताई है.

शोधकर्ताओं का दावा है कि टीके के एक नमूने को जब कुछ बच्चों को लगाया गया, तो पता चला कि इन बच्चों में मलेरिया होने का ख़तरा क़रीब 50 फ़ीसदी कम हो गया है.

इस टीके का नाम है आरटीएस,एस. ये उन दो टीकों में शामिल है, जिनका दुनियाभर में परीक्षण चल रहा है.

इस शोध में 18 साल से कम के 15 हज़ार से ज़्यादा बच्चों ने हिस्सा लिया. ये बात द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ़ मेडिसिन में छपी है.

शोध

इस टीके का परीक्षण सात अफ़्रीकी देशों में हुआ. परीक्षण में दो ग्रुप के बच्चे शामिल थे.

पहले ग्रुप में छह से 12 सप्ताह के बच्चे और दूसरे ग्रुप में पाँच से 17 महीने के बच्चे शामिल थे.

ब्रितानी दवा कंपनी जीएसके के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एंड्रयू विटी ने बताया कि इन आँकड़ों ने हमें दुनिया के पहले मलेरिया के टीके को विकसित करने के क़रीब ला दिया है.

शोध करने वाली टीम का नेतृत्व अटलांटा स्थित यूएस सेंटर्स फ़ॉर डिज़ीज़ कंट्रोल एंड प्रीवेंशन के डॉक्टर मैरी हैमेल ने किया.

बड़े बच्चों में परीक्षण के नतीजे का अभी आकलन किया जा रहा है.

संबंधित समाचार