एक सेकेंड में एक खरब गिनतियाँ!

इंटेल
Image caption नाइट्स कॉर्नर का प्रयोग एक अतिरिक़्त चिप की तरह किया जाएगा जो कंप्यूटर की प्रोसेसर से जटिल कार्यो को लेकर खुद ही कर देगा.

अमरीकी कंप्यूटर चिप निर्माता कंपनी इंटेल ने एक ऐसी चिप बनाने का दावा किया है, जो एक सेकेंड में एक खरब गिनतियां कर लेती है.

'नाइट्स कॉर्नर' नाम के इस चिप को सिएटल के एक सुपर कंप्यूटर सम्मेलन में लॉंच किया गया.

सिलिकॉन के बने एक टेराफ़्लॉप की गति वाले इस चिप में क़रीब 50 करोड़ प्रोसेसर लगे हुए है.

टेराफ़्लॉप की गति वाला पहला कंप्यूटर साल 1997 में बनाया गया था, जिसमें 72 कैबिनेट यानr बक्से लगे थे.

ऐसे शक्तिशाली कंप्यूटरों का प्रयोग मौसम का अनुमान लगाने, मॉलिक्युलर मॉडलिंग और कार क्रैश सिम्युलेशन जैसे कामों में किया जाता है.

शक्तिशाली कंप्यूटर

‘नाइट्स कॉर्नर’ का प्रयोग एक अतिरिक़्त चिप की तरह किया जाएगा, जो कंप्यूटर प्रोसेसर से जटिल कार्यो को लेकर खुद ही कर देगा.

इंटेल के मुताबिक़ यह चिप अपने तरह का पहला सर्वर प्रोसेसर है, जो पीसीआई एक्सप्रेस 3.0 को सपोर्ट करता है.

इस तकनीक से दूसरे डिवाइसों में डेटा ट्रांसफ़र की गति 32 गीगाबाइट प्रति सेकेंड तक पहुँच जाती है जो पहले के संस्करणों से दोगुनी गति है.

इंटेल के जनरल मैनेजर राजीब हाज़रा ने कहा, ''विज्ञान से जुड़े कामों में जानकारियाँ बड़ी मात्रा में इकट्ठा की जाती है, जिसके विश्लेषण का दायरा और बड़ा होता है. ऐसे काम के लिए नए तरह के प्रोसेसरों की ज़रूरत होती है, जिसका निर्माण काम को ध्यान में रखते हुए करना पड़ता है.''

राजीब हाज़रा के मुताबिक़ इस तरह के सभी काम करने वाली एक चिप का निर्माण करना बड़ी सफ़लता है.

पहले से तेज़ गति

एक तरफ़ जहाँ इंटेल ने अपने दूसरे x86 चिप्स की ही बनावट में इस चिप को भी ढाल दिया है, वही दूसरी कंपनियों ने दूसरा रास्ता तलाशा है.

दूसरी कंपनियों ने ग्राफ़िक प्रोसेसिंग यूनिट नाम की चिप निकाली हैं, जो स्क्रीन पर दिखने वाली रंगो और चित्रों को जल्दी और बेहतर ढंग से प्रकाशित करता है.

इस तरह के चिप्स अपना काम बिना किसी गतिरोध के करते है. ऐसे चिप्स में किसी प्रोसेस का आउटपुट किसी और प्रोसेस के इनपुट के लिए रूकावट नही बनता है.

हालाँकि कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर बनाने वाले प्रोग्रामर्स को ग्राफ़िक प्रोसेसिंग यूनिट (जीपीयू) चिप्स को चलाने के लिए विशेष कोड बनाने पड़ते है.

वही इंटेल के चिप को चलाने के लिए अलग से कोई और सॉफ़्टवेयर डालने की ज़रूरत नही पड़ेगी.

लेकिन दूसरे चिप निर्माताओं की राय कुछ इतर है, जीपीयू चिप्स बनाने वाली कंपनी एनवीडिया के प्रमुख कार्यकारी अधिकारी जेन ज़ुन ह्वांग के अनुसार जीपीयू चिप्स कम जटिल होती है, जिस वजह से इसमें ऊर्जा की कम खपत होती है.

कंप्यूटर का विकास

साल 1997 में पहला इंटेल टेराफ्लॉप सुपर कंप्यूटर आने के बाद से अब तक कंप्यूटर पहले से काफ़ी विकसित हो चुका है.

पहले इंटेल टेराफ्लॉप कंप्यूटर में दस हज़ार पेंटियम-2 चिप्स लगते थे जिसके लिए कुल 72 कंप्यूटर कैबिनेट लगाए जाते थे. इसकी क़ीमत साढ़े पाँच करोड़ डॉलर थी.

साल 2008 में बने आईबीएम के 'रोड रनर' की गति पेटाफ़्लॉप श्रेणी में आती है. यह एक सेकेंड में एक हज़ार खरब गिनतियाँ कर सकता है.

साल 2018 तक इंटेल का लक्ष्य एक ऐसा चिप बनाने का है, जो एक्ज़ास्केल श्रेणी की गति से चलता हो. यानी इस वक़्त मौजूदा चिप की गति से 100 गुना ज़्यादा.

संबंधित समाचार