प्लास्टिक बैग का क्या है विकल्प

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

यूरोपीय आयोग का प्रस्ताव है कि यूरोप में हर साल इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक बैग की संख्या में कटौती की जाए. इस बारे में सार्वजनिक तौर पर हुए विचार-विमर्श में शामिल हुए हजारों लोगों ने प्लास्टिक पर प्रतिबंध का पुरजोर समर्थन किया लेकिन सवाल है कि ये कैसे होगा और प्लास्टिक बैग का विकल्प क्या है.

यूरोपीय संघ वाले देशों में हर साल आठ लाख टन प्लास्टिक बैग का इस्तेमाल होता जिनके बारे में कहा जाता है कि इन्हें केवल एक बार उपयोग में लाया जा सकता है.

इन देशों में रहने वाले नागरिकों ने वर्ष 2010 में औसतन 191 प्लास्टिक बैग का इस्तेमाल किया जिनके बारे में यूरोपीय आयोग का कहना है कि इनमें से केवल छह प्रतिशत को ही दोबारा इस्तेमाल योग्य बनाया गया.

इन देशों में चार अरब से ज्यादा प्लास्टिक बैग यूं ही फेंक दिए जाते हैं.

पर्यावरण की निगरानी करने वाले जानेज पोटोकनिक कहते हैं, ''प्लास्टिक के इस कचरे का असर हमारी धरती पर देखा जा सकता है जिसकी वजह से वन्य जीवों पर खतरा मंडरा रहा है जो प्रशांत महासागर में प्लास्टिक सूप की शक्ल ले रहा है.''

प्लास्टिक पर एकदम पाबंदी

बीते साल इटली यूरोप का ऐसा पहला देश बन गया जहां ऐसे प्लास्टिक पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई जो कुदरती तौर पर अपने आप पूरी तरह से नष्ट नहीं होता.

चीन, दक्षिण कोरिया, केन्या, उगांडा, ताइवान और बांग्लादेश समेत कई देशों में बहुत पतले प्लास्टिक बैग के इस्तेमाल पर प्रतिबंध है. ये देखा गया कि प्लास्टिक के बैग नालियों को जाम कर देते हैं और कई बार बाढ़ का सबब बन जाते हैं.

रवांडा, सोमालिया और तंजानिया समेत चंद देशों में प्लास्टिक बैग के इस्तेमाल पर पूरी तरह प्रतिबंध है.

संयुक्त अरब अमीरात प्लास्टिक की वजह से प्रदूषण और ऊंट समेत अन्य जानवरों के प्रति चिंतित है जो अगले वर्ष इस पर प्रतिबंध लगाने जा रहा है.

ब्रितानी सरकार में मंत्री लॉर्ड हेनली ने बीते साल कहा था कि वो अपने देश में प्लास्टिक बैग के इस्तेमाल से खुश नहीं हैं जहां चार साल इसके इस्तेमाल में गिरावट आई पर वर्ष 2010 में पांच प्रतिशत का इजाफा हो गया. यानी ब्रिटेन में भी प्लास्टिक के बैग पर पाबंदी लग सकती है.

प्लास्टिक बैग के इस्तेमाल का विरोध करने वालों का कहना है कि इसके कई विकल्प बताए गए हैं, साथ ही लोगों और दुकानदारों को इसकी तैयारी के लिए पर्याप्त समय मिला और गरीबों पर इसका बुरा असर भी नहीं होता है.

प्लास्टिक बैग बैन रिपोर्ट नामक एक वेबसाइट चलाने वाले टेड डुबोइस कहते हैं, ''अमरीका में स्थानीय कानून भी अजब हैं. लॉस एंजेल्स सिटी में प्लास्टिक बैग पर रोक नहीं है लेकिन लॉस एंजेल्स काउंटी में रोक है. एक बाजार में दुकानदार आपको प्लास्टिक बैग देता है और थोड़ी दूरी पर दूसरे बाजार में ये प्रतिबंधित है.''

भारी कर

आयरलैंड ने प्लास्टिक के हर बैग पर 15 यूरो सेंट्स का कर मार्च 2002 में ही लगा दिया था जिसकी वजह से इसके इस्तेमाल में 95 प्रतिशत तक की कमी आई और सालभर के भीतर 90 प्रतिशत दुकानदार दूसरी तरह के बैग का इस्तेमाल करने लगे.

फिर साल 2007 में कर बढ़ाकर 22 सेंट कर दिया गया. इस तरह सरकार ने कर के माध्यम से 7.5 करोड़ यूरो भी कमा लिए जिन्हें एक पर्यावरण कोष में लगा दिया गया.

बेल्जियम, स्विटजरलैंड, जर्मनी, स्पेन, नॉर्वे और नीदरलैंड्स उन देशों में शामिल हैं जिन्होंने आयरलैंड का अनुसरण किया.

लंबी उम्र वाले बैग

दुकानदार यदि प्लास्टिक बैग के बजाए दूसरे किस्म के कपड़े या फिर प्लास्टिक के ही मजबूत बैग का इस्तेमाल करते हैं तो पर्यावरण पर इसका बड़ा असर पड़ सकता है.

यूरोपीय आयोग ऐसे प्लास्टिक बैग शुरु करने पर विचार कर रहा है जो जैवित रूप से खुद नष्ट हो जाएं.

लेकिन मक्के से बनने वाले बैग नष्ट होने की प्रकिया में मीथेन गैस पैदा करते हैं जो ग्लोबल वार्मिंग के लिहाज से सही नहीं है.

ब्रिटेन की एक कंपनी एक खास तरह के प्लास्टिक बैग बनाती है जिसके बारे में उसका दावा है कि ये 18 महीने के भीतर अपने आप नष्ट हो सकते हैं.

अमरीका में कागज के बैग बहुत लोकप्रिय रहे हैं लेकिन जानकारों का कहना है कि नष्ट होने की प्रक्रिया में ये कार्बन पैदा करते हैं.

संबंधित समाचार