चलने लगा लकवाग्रस्त हाथ!

अहम सर्जरी
Image caption डॉक्टरों ने हाथ की नाड़ियों को इस तरह व्यवस्थित किया कि उसे मस्तिष्क से संदेश मिलने लगे

अमरीका में डॉक्टरों ने एक अनूठा ऑपरेशन किया जिसके बाद एक लकवाग्रस्त व्यक्ति का हाथ एक हद तक काम करने लगा है.

कहानी एक 71 वर्षीय बुजुर्ग की है जो अपने हाथ से कुछ नहीं कर पाते थे लेकिन अब वो खुद खाना खा सकते हैं.

ये बुजुर्ग 2008 में हुए एक हादसे में बुरी तरह घायल हो गए थे. उनकी गर्दन के पास रीढ़ की हड्डी को जबरदस्त नुकसान हुआ था जिसकी वजह से वो चलने फिरने और हाथ हिलाने तक के मोहताज हो गए.

मस्तिष्क के संदेश

लेकिन इस हादसे में उनकी हाथ की नाड़ियों को कोई नुकसान नहीं हुआ लेकिन चोट की वजह से मस्तिष्क से आने वाले संदेश नाड़ियों तक नहीं पहुंच रहे थे.

इसीलिए अमरीका में 'वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन' में डॉक्टरों ने हाथ की नाड़ियों को इस तरह व्यवस्थित करने की कोशिश की ताकि उन्हें मस्तिष्क से जोड़ा जा सके.

ये मरीज अपनी बाजु की मांसपेशियों को हिला डुला सकते थे, इसलिए डॉक्टरों ने वहां से नाड़ियों को लेकर हाथ की नाड़ियों से जोड़ दिया गया.

महीनों की प्रैक्टिस के बाद ये व्यक्ति अपने अंगूठे और पहली ऊंगली से चीजों को पकड़ पा रहे हैं. इस तरह वो बिना किसी मदद लिए खुद खाना खा पी रहे हैं.

इस तरह के ऑपरेशन में सिर्फ उन मरीजों पर काम किया जाएगा जिन्हें विशेष बीमारियां हैं, लेकिन सर्जन कह रहे हैं कि ये उनके लिए एकदम नई तरह का समाधान है.

संबंधित समाचार