गर्भावस्था के दौरान डाइटिंग सुरक्षित: शोध

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption विशेषज्ञों का कहना है कि गर्भावस्था के दौरान ज्यादा वजन बढ़ना मां-बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है

एक नये शोध में कहा गया है कि गर्भावस्था के दौरान डाइटिंग करना महिलाओं के लिए सुरक्षित है और इसमें बच्चे के लिए खतरे की कोई बात नहीं है.

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल ने इस विषय में पहले हुए 44 अध्ययनों की पड़ताल की जिनमें 7,000 से ज्यादा महिलाएं शामिल थीं.

इस शोध से जुड़े लंदन स्थित दल का कहना है कि स्वास्थवर्धक भोजन करने से वजन नहीं बढ़ता है और गर्भावस्था संबंधी जटिलताएं का खतरा भी कम होता है.

लेकिन साल 2010 में जारी एक परामर्श में कहा गया था कि गर्भावस्था के दौरान डाइटिंग नहीं करनी चाहिए क्योंकि इसकी वजह से अजन्में शिशु को खतरा हो सकता है.

बहरहाल महिलाओं को सलाह दी गई है कि गर्भधारण करने से पहले उनका वजन उचित होना चाहिए.

संतुलित आहार

ब्रिटेन की आधी से ज्यादा आबादी का वजन जरूरत से ज्यादा है.

यूरोप और अमरीका में 20 से 40 प्रतिशत महिलाएं गर्भावस्था के दौरान जरूरत से ज्यादा मोटी हो जाती हैं.

वजन ज्यादा होने की वजह से मधुमेह, उच्च रक्तचाप के साथ ही शिशु के निर्धारित समय के पहले पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है.

लंदन स्थित क्वीन मैरी अस्पताल की डॉक्टर शकीला थंगरत्नम कहती हैं, ''ऐसे मामले ज्यादा देखने में आ रहे हैं कि महिलाओं का वजन गर्भावस्था के दौरान अधिक बढ़ जाता है. ऐसी महिलाओं और उनके बच्चे के लिए खतरा भी बढ़ जाता है.''

वे कहती हैं, ''वजन पर काबू पाना मुश्किल होता है, लेकिन ये अध्ययन बताता है कि सही तरीके से खानपान के जरिए गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ने पर काबू पाया जा सकता है.''

वे कहती हैं, ''ये अध्ययन ये भी बताता है कि संतुलित आहार से गर्भावस्था संबंधी जटिलताओं का खतरा कम किया जा सकता है. इससे ये भी पता चलता है कि डाइटिंग करना सुरक्षित है और इससे बच्चे के वजन पर असर नहीं पड़ता है.''

संबंधित समाचार