एपल करे घोषणा, सैमसंग ने नहीं की नकल: जज

एपल और सैमसंग इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption एपल और सैमसंग एक दूसरे पर अपने डिजाइन की नकल करने का आरोप लगाते हैं.

एक ब्रितानी जज ने कंप्यूटर और स्मार्टफोन क्षेत्र की नामी कंपनी एपल को आदेश दिया है कि वो अपनी वेबसाइट और अखबार व पत्रिकाओं में घोषणा करे कि प्रतिद्वंद्वी कंपनी सैमसंग ने एपल के आईपैड की नकल नहीं की है.

ब्लूमबर्ग समाचार एजेंसी ने खबर दी है कि जज ने आदेश दिया है कि इस बारे में एक नोटिस कम से कम छह महीने तक एपल की वेबसाइट पर रहना चाहिए, जबकि अखबारों और पत्रिकाओं में अलग से विज्ञापन दिए जाने चाहिए.

इस मुद्दे पर दोनों कंपनियां कई देशों में कानूनी लड़ाई लड़ती रही हैं. हालांकि अमरीकी कंपनी एपल दक्षिण कोरियाई कंपनी सैमसंग के गैलेक्सी टैब टेबलेट्स की बिक्री को रुकवाने की कोशिशों में नाकाम रही है.

ब्रितानी जज के आदेश पर अभी एपल की प्रतिक्रिया नहीं आई है.

ये आदेश जज कॉलिन बिर्स के 9 जुलाई को प्रकाशित फैसले में नहीं दिया गया है, लेकिन ब्लूमबर्ग का कहना है कि फैसले के बाद भी अदालत में इस मामले पर चर्चा हुई.

एपल को 'अधिकार'

इस आदेश के अनुसार एपल की ओर से जारी होने वाले नोटिसों में अदालती मुकदमे का जिक्र होना चाहिए और उन्हें ‘छवि को हुए नुकसान को सुधारने’ वाले अंदाज में तैयार किया जाना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption एपल सैमसंग के गैलेक्सी टैब टेबलेट्स की बिक्री को रुकवाने में नाकाम रही है.

हालांकि जज ने सैमसंग के इस आग्रह को मानने से इनकार कर दिया कि एपल को ये दावा करने से रोका जाए कि डिजाइन से जुड़े उसके अधिकारों से छेड़छाड़ की गई है.

जज बिर्स ने कहा कि अमरीकी कंपनी को ये राय रखने का पूरा ‘अधिकार’ है कि उनका फैसला गलत है.

वहीं सैमसंग की तरफ से जारी बयान में गया है: “अगर एपल ने सामान्य डिजाइन के आधार पर मुकदमेबाजी जारी रखी तो इससे उद्योग में कुछ नया करने की कोशिशों को नुकसान होगा और इससे ग्राहकों के लिए मौजूद विकल्प भी सीमित होंगे.”

संबंधित समाचार