भारत: दवाओं के परीक्षण से दो साल में 1144 मौतें

 बुधवार, 22 अगस्त, 2012 को 16:00 IST तक के समाचार
दवाई

बाजार में लाए जाने से पहले नई दवाइयों का मरीजों पर परीक्षण किया जाता है

भारत में पिछले दो वर्षों में दवाओं के परीक्षण से 1144 लोगों की मौत हुई है.

सरकारी आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2010 और 2011 में दवाइयों के परीक्षणों में मारे गए लोगों में 1106 लोग ऐसे थे जो कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों के मरीज थे.

दरअसल बाजार में लाए जाने से पहले नई दवाइयों का मरीजों पर परीक्षण किया जाता है, ताकि इसके असरदायक होने या इससे होने वाले किसी प्रकार के संभावित दुष्प्रभावों का पता चल सके.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद ने राज्यसभा में अपने लिखित जवाब में बताया, “दवाओं के परीक्षण से गंभीर बीमारी से ग्रस्त वर्ष 2010 में 668 और 2011 में 438 लोगों की मौत हुई है.”

दवाओं का गलत प्रयोग

स्वास्थ्य मंत्री के अनुसार गंभीर बीमारी से ग्रस्त मरीजों की मौत की वजह दवाओं के गलत प्रभाव या इस्तेमाल हो सकता है.

"दवाओं के परीक्षण से गंभीर बीमारी से ग्रस्त वर्ष 2010 में 668 और 2011 में 438 लोगों की मौत हुई है."

गुलाम नबी आजाद

आजाद ने कहा कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण की स्थाई समिति ने अपने रिपोर्ट में सेंट्रल ड्रग्स स्टैडर्ड्स कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन के काम काज के तरीकों और दवाओं को स्वीकृति दिए जाने की प्रक्रिया में कई खामियां चिन्हित की.

पीटीआई के अनुसार आजाद ने कहा, “स्थाई समिति मीडिया में आई उन खबरों का भी अवलोकन किया है जो गरीबों पर दवाओं के परीक्षण के तौर-तरीको और इस प्रक्रिया में होने वाली मौतों के मामलों से संबंधित है.”

परीक्षण में शामिल होने वाले मरीजों की सुरक्षा के बारे में बोलते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, “देश में दवाओं के परीक्षण के लिए प्रयोग किए जाने वाले लोगों की सुरक्षा से संबंधित कई मामले सुप्रीम कोर्ट और इलाहाबाद हाइकोर्ट में लंबित हैं.”

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.