क्यों दिखते हैं सभी गैजेट एक से ही?

पेटेंट विवाद से लेकर ऐपल के नए आईफ़ोन के लॉन्च से जुड़ी हलचल तक ये बात हैरत में डालती है कि कैसे हर नई तकनीक जल्द ही पुरानी हो जाती है.

अगर 2007 से पहले की बात करें तो ऐपल ने अपने स्मार्टफोन में कीबोर्ड न लगाने का फैसला किया था जिसे ‘रैडिकल’ और यहाँ तक कि बेतुका माना गया था.

आज अगर हम उस समय के किसी भी उपकरण के डिजाइन देखें तो बहुत ही बेढंगे और बेतुके लगते हैं- सिवाय ऐपल के डिजाइन जिसने बाकी कंपनियों के डिजाइन को प्रभावित किया.

एक विशेष कंपनी के कौशल से ज्यादा इस सबसे ये बात बार-बार उभर कर सामने आती है कि कैसे सफल डिजिटल रचनाओं में कुछ नयापन नहीं दिख रहा है और बाद में वो डिजाइन अजीब दिखते हैं और गायब हो जाते हैं.

इसमें कोई हैरत की बात नहीं है कि तकनीक तेजी से बदलती है. लेकिन जो बात मायने रखती है वो ये है कि कैसे तकनीक हर नई सफलता में 'पुरानी जाहिर चीजों’ को साथ लेकर चलती है.

अलग पहचान मुश्किल

जब डिजाइन की बात आती है तो सबसे ज्यादा दवाब इनोवेशन या कुछ नया करने पर नहीं होता है. बल्कि गला काट प्रतिस्पर्धा के कारण इनोवेशन का उल्टा ही होता है- समरूपता आ जाती है.

सफलता की कुंजी दरअसल ये भी है कि कैसे हर चीज एक समान दिखनी चाहिए.

इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की बात करें तो डिजिटल सफलता हासिल करने की होड़ में लगी कंपनियाँ मुश्किल स्थिति में होती हैं.

क्योंकि मौलिकता एक महंगा दांव है जबकि किसी की नकल करने का मतलब है कि आप एक लंबी कतार में शामिल हो गए हैं या फिर किसी का सफल फॉर्मूला उधार ले रहे हैं.

बात चाहे बिजनेस की हो या तकनीक की- अपवाद लगने वाली चीजें समय के साथ सामान्य चीज़ें बन जाती है. लेकिन ऑनलाइन की दुनिया में हर चीज बड़ी रफ्तार से बदलती है और पहले क्या हो चुका है ये घातक साबित होता है.

इस वजह से अलग पहचान वाली चीजें बेशकीमती बन जाती हैं. ऐसे माहौल में जहाँ यूर्जर्स की उम्मीदें बहुत ज्यादा रहती हैं और हर कंपनी की किस्मत दांव पर लगी रहती है, कुछ अलग करते रहना बड़ा मुश्किल है और वो भी नियमित रूप से.

सवाल ये है कि आखिर किया क्या जाए? वेब का इतिहास बड़ी से बड़ी कंपनियों के लिए भी चेतावनी भरा संदेश देता है.

जब पिछले दशक का इनोवेशन सामान्य बात होने लगे तो तमाम पेटेंट और लाइसेंस भी आपको उस दौर से नहीं बचा सकते जब फिर से कोई नई तकनीक आएगी और देखते ही देखते वो तकनीक भी सामान्य और एक जैसी हो जाएगी.

संबंधित समाचार