आई-फ़ोन-5 अब दुनिया भर में, ऐपल पर कसता शिकंजा

  • 21 सितंबर 2012
आईफोन5
Image caption ब्रिटेन में ग्राहकों ने नए हैंडसेट के लिए 699 पाउंड दिए हैं

ऐपल का आई-फ़ोन-5 शुक्रवार से दुनियाभर के बाज़ारों में ग्राहकों के लिए उपलब्ध होगा लेकिन पेटेंट को लेकर स्मार्टफोन कंपनियों में छिड़ी जंग में ऐपल पर सैमसंग और गूगल का शिंकजा कसता जा रहा है.

शुक्रवार को आई-फ़ोन-5 की बिक्री ऑस्ट्रेलिया के बाज़ारों से शुरु हुई जहां स्थानीय समयानुसार सुबह आठ बजे से ही ऐपल-स्टोर के सामने भीड़ जुटनी शुरु हो गई. शुरुआती 24 घंटों में ही ऐपल ने 20 लाख से ज्यादा फोन की बुकिंग कर ली है.

आई-फ़ोन-4 एस पहले दिन की बिक्री के मुकाबले आई-फ़ोन-5 की पहले दिन की बिक्री दोगुनी रही है.

इस बीच गूगल की ओर से ऐपल के उत्पादों की बिक्री पर लंबे समय के लिए प्रतिबंध लगाने संबंधी शिकायत पर कार्रवाई शुरु होने वाली है.

पेटेंट की जंग

सैमसंग ने भी ऐपल के लिए मुश्किलें बढ़ाते हुए कहा है कि वह दोनों कंपनियों के बीच अमरीका में चल रहे पेटेंट के मुक़दमे में नए आई-फ़ोन-5 को भी शामिल करेगा.

सैमसंग और गूगल के बीच दस देशों में कानूनी लड़ाई जारी है और स्मार्टफ़ोन के बाज़ार में दोनों कंपनियों के बीच छिड़ी इस जंग से अरबों रुपए दांव पर लगे हैं. दोनों कंपनियां बाज़ार में अपनी पैठ बढ़ाने के लिए मार्केटिंग के नए से नए पैंतरे आज़मा रही है.

इस बीच ऐपल को सैमसंग पर मिली कानूनी जीत और ऐपल को दिए जाने वाले हर्जाने के मसले पर ऐपल-सैमसंग में मोलभाव जारी है. माना जा रहा है कि ऐपल इस मामले में 1.05 अरब डॉलर का हर्जाना मांगेगा.

इस मामले में कैलिफ़ोर्निया की अदालत ने कुछ समय पहले ये आदेश दिया था कि सैमसंग ने ऐपल उत्पादों की नक़ल करते हुए कई पेटेंट कानूनों का उल्लंघन किया.

संबंधित समाचार