चाँदनी रातों से क्यों डरते हैं चमगादड़ ?

चाँदनी रात को खूबसूरती से जोड़कर देखा जाता है जिसका सबको इंतज़ार रहता है. लेकिन रात के अंधेरों में उड़ने वाले चमगादड़ों को शायद चाँदनी रास नहीं आती.

एक शोध से पता चलता है कि अगर बाहर चांदनी हो तो चमदागड़ डर जाते हैं और अंधेरे में जाकर छिपना ही पसंद करते हैं.

मेक्सिको में वैज्ञानिकों ने दुनिया भर के चमगादड़ों के रवैये का अध्ययन किया और ‘चाँद से खौफ़’ के बारे में जानने की कोशिश की.

अध्ययन से पता चला कि अंधकार में रहने वाले चमगादड़ों की तुलना में चाँदनी वाले इलाकों में रहने वाले चमगादड़ों की गतिविधियाँ कम हो जाती हैं.

इसका कारण शायद ये हो सकता है कि जहाँ चाँदनी होती है, वहाँ रोशनी ज़्यादा रहती है और ऐसे में चमगादड़ आसानी से दूसरे पशु-पक्षियों का शिकार बन सकते हैं.

'लूनर फोबिया'

ये सारी बातें ‘मैमेलियन बायोलॉजी’ नामक पत्रिका में छपी हैं. वैज्ञानिक मानते हैं कि चन्द्रमा से जुड़े खौफ़ (लूनर फोबिया) को लेकर ये पहला अध्ययन है जिस पर भरोसा किया जा सकता है.

शोध के मुताबिक चमगादड़ों में 'लूनर फोबिया' आम बात है यानी वो चांदनी से डरते हैं.

इसके अलावा ये भी पाया गया कि वो प्रजातियाँ जो पानी के आस पास रहती हैं और जंगलों की छाया में रहती हैं, उनमें लूनर फोबिया कहीं ज़्यादा होता है.

हालांकि इसमें एक अपवाद भी है. वो चमगादड़ जो पेड़ों के ऊपर उड़ते हैं, वो प्रजातियाँ चाँदनी रातों में भी अपनी गतिविधियाँ कम नहीं करते.

नेशनल ऑटोनोमस यूनिवर्सिटी ऑफ मेक्सिको में जीव विज्ञानी रोमियो सलदाना कहते हैं कि ऐसा शायद इसलिए होता है क्योंकि ये चमदागड़ तेज़ रफ्तार से उड़ते हैं और इन इलाक़ो में उनका शिकार करने वाले कम होते हैं.

उन्हें उम्मीद है कि इस अध्ययन के बाद इस विषय पर और गहन शोध होगा.

संबंधित समाचार