क्यों है ये चादर धुँध की?

धुंध
Image caption दिल्ली की सरकार इसके लिए सूखी घास को जलाने वाले पड़ोसी राज्यों के किसानों को ज़िम्मेदार ठहरा रही है.

पिछले कुछ दिनों से दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के कई इलाके एक अजीब सी धुंध की चादर से ढके हैं. इससे पर्यावरण विशेषज्ञों से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक चिंतित हैं. मौसम विभाग का कहना है कि कई दिनों तक मौसम ऐसा ही रहने वाला है.

सर्दी के मौसम में दिल्ली में स्मॉग या धुंध असाधारण बात नहीं है लेकिन इस बार इसका स्तर पहले से कहीं अधिक माना जा रहा है.

दिल्ली की सरकार इसके लिए फसल के खेत में सूखे बचे हिस्से को जलाने वाले पड़ोसी राज्यों के किसानों को ज़िम्मेदार ठहरा रही है.

मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का कहना है कि सरकार इस अभूतपूर्व स्मॉग से चिंतित है. लेकिन उनका कहना है कि उपग्रह से प्राप्त की गई तस्वीरे दिखाती हैं कि इसका कारण गाड़ियों का प्रदूषण नहीं है.

'नीलम है वजह'

लेकिन भारतीय मौसम विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक एस दुराएस्वामी ने बीबीबी को बताया, ''इसका कारण कुछ दिन पहले बंगाल की खाड़ी में आया नीलम तूफा़न है. इसकी वजह से हमारे क्षेत्र में नमी रह गई है.''

उन्होंने कहा, ''इसका दूसरा कारण देश के उत्तर-पश्चिमी इलाकों में प्रदूषण का बढ़ना है. हवा चलने के बाद यह हटने लगेगा. यह स्मॉग अभी तीन चार दिन तक रहेगा.''

उन्होंने यह भी कहा, ''लेकिन इसके बार फिर दीवाली पर पटाखे चलेंगी और ऐसे ही हालात दोबारा देखने को मिलेंगे. 15 नवंबर तक ऐसा ही मौसम रहेगा.''

'बढ़ रहा प्रदूषण'

दूसरी ओर पर्यावरण विश्लेषकों का मानना है कि स्मॉग का कारण शहर में बढ़ रहा वो प्रदूषण है जो खास तौर पर डीज़ल की गाड़ियों से छोड़ा जा रहा है.

दिल्ली स्थित पर्यावरण संस्था विज्ञान और पर्यावरण केंद्र का कहना है कि हाल के सालों में शहर में प्रदूषण का स्तर कई गुणा बढ़ा है.

संस्था के डिपटी प्रोग्राम मैनेजर विवेक चटोपाध्य के मुताबिक ''क्षेत्र में प्रदूषण काफी बढ़ा है. गाड़ियां की संख्या 70 लाख हो गई है जिसने प्रदूषण को काफी बढ़ाया है.''

उन्होंने आगे कहा, ''फिर सूखे घास को जलाने की भी घटनाएं हो रही है. हवा की गति काफी कम होने की वजह से यह स्मॉग हट नहीं रहा है.''

दिन में लाइटें

दिल्ली के कनॉट प्लेस में अक्सर दिन में ही स्ट्रीट लाइट जगानी पड़ रही है. कई सड़कों पर गाड़ियों की हेडलाइट ऑन देखी जा सकती है.

दिन में सूर्य निकलता तो है लेकिन उसकी रोशनी कुछ ऐसी होती है जैसे सूर्यास्त का समय हो.

इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने स्मॉग पर चर्चा करने के लिए शनिवार को पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और मौसम विभाग के अधिकारियों को पेश होने को कहा है ताकि इसका कोई समाधान निकाला जा सके.

संबंधित समाचार