एक बच्ची ने खोजा 11.5 करोड़ साल पुराना डायनासोर

जीवाश्म के आधार पर वैज्ञानिकों ने इस डायनासोर का रूप रचा है

ब्रिटेन में पांच साल की उम्र में साढ़े ग्यारह करोड़ साल पुराने डायनासोर के जीवाश्म खोजने वाले लड़की के नाम पर ही डायनासोर की इस नई प्रजाति का नाम रखा गया है.

वैज्ञानिकों का कहना है कि जीवाश्म के ये अवशेष एक नई बिल्कुल प्रजाति के मालूम होते हैं. डैजी मोरिस नाम की बच्ची को ये जीवाश्म 2009 में आइल ऑफ विट द्वीप के तट पर मिला था.

वैज्ञानिकों ने इसकी पहचान उड़ने वाले एक सरीसृप की नई प्रजाति के तौर पर की है. ये जीव कौवे का आकार का रहा होगा.

इससे पता चलता है कि उस वक्त यूरोप में अलग अलग आकार के उड़ने वाले सरीसृप रहते होंगे.

बड़ी खोज

अब नौ वर्ष की हो चुकी डैजी खुद डायनासोर की खासी शौकीन है और चार साल पहले वो आर्थरफील्ड के तट पर टहल रही थी कि उसके पैर इस जीवाश्म से टकराए.

सोमवार को प्रकाशित एक वैज्ञानिक शोध पत्र के अनुसार डैजी के नाम पर ही इस जीवाश्म को वैट्रीड्रेको डेजीमॉरिसे का नाम दिया गया है.

जीवाश्म विशेषज्ञ मार्टिन सिंपसन कहते हैं कि ये मामला दिखाया है कि किस तरह बड़ी बड़ी खोजें नौसिखिए लोग कर लेते हैं.

Image caption डैजी मॉरिस खुद डायनासोरों को खूब पसंद करती है

डैजी के परिवार ने इस जीवाश्व के बारे में साउथएंप्टन यूनिवर्सिटी के सैम्पन से ही संपर्क किया था.

वो बताते हैं, “मुझे पता था कि मैं एक बहुत ही विशेष चीज देख रहा था. और मैं सही था.”

'डायनासोर की राजधानी'

सिम्पसन के अनुसार “जिस द्वीप के तट पर ये जीवाश्म मिला, उसका तट इस तरह का है कि अगर ये डैजी को न मिला होता तो ये बह जाता और बर्बाद हो जाता.”

जीवाश्म 2009 में मिलने के बाद ही नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम को दान कर दिया गया था. इस संग्राहलय ने आइल ऑफ विट को हाल ही में ‘ब्रिटेन की डायनासोर राजधानी’ का नाम दिया है.

हफ्ते भर पहले ही इस द्वीप पर 12 फुट लंबे एक डायनासोर के कंकाल का लगभग पूरा ढांचा मिला है.

संबंधित समाचार