शनि पर भयानक तूफान की तस्वीरें

Image caption शनि के उत्तरी ध्रुव की तस्वीरें लेना इसीलिए संभव हो सका क्योंकि कासिनी ने अपना कोण बदल लिया था

सौरमंडल के दूसरे सबसे बड़े ग्रह, शनि के उत्तरी ध्रुव पर एक भयानक तूफान उमड़ रहा है. यह इतना बड़ा है कि इसकी सीमा में 12 से अधिक ब्रिटेन समा सकते हैं.

इस तूफान की तस्वीरें खींची है कासिनी नाम के अंतरिक्ष यान ने, जो 2004 में यहां पहुंचा था. तस्वीरें 4 लाख 20 हजार किलोमीटर की ऊंचाई से खींची गई हैं.

तस्वीरें लाल और खून के रंग की हैं. हालांकि इससे तूफान के असली रंग का पता नहीं चलता.

वैज्ञानिकों का कहना है कि तूफान की गति 330 किलोमीटर प्रति घंटे की है. हालांकि वो ये नहीं बताते कि तूफान कब से चल रहा है.

अंतरिक्ष में तूफान की चौंकाने वाली तस्वीरें

कासिनी जब पहली बार शनि ग्रह में पहुँचा था तो वहां पर अंधेरा था. उस वक्त शनि में सर्दी का मौसम चल रहा था.

तस्वीरें

ये पहली बार है जब दिन के उजाले में शनि ग्रह के उत्तरी ध्रुव की तस्वीरें भेजी गई हैं. इससे पहले आखिरी बार 1981 में वोयजर-2 नाम के अंतरिक्ष यान ने तस्वीरें भेजी थीं.

कासिनी आंतरिक्ष यान की टीम के एक सदस्य एंड्रू इंगरसोल ने कहा, “जब हमें ये भंवर दिखाई पड़ा तो हमने इसकी दोबारा तस्वीरें लीं. ये बहुत कुछ धरती पर आने वाले तूफान के जैसा है.”

हालांकि ये शनि ग्रह में है और इसका दायरा बहुत बड़ा है. किसी तरह से इसे शनि के वातापरण में मौजूद हाइड्रोजन से थो़ड़ा बहुत पानी भी मिल जा रहा है.”

वैज्ञानिकों का मानना है कि तूफान ध्रुव तक सीमित रहेगा क्योंकि इसे हवाओं ने उत्तर की तरफ धकेल दिया है. ये वैसे हुआ है जैसे कि धरती पर होता है. इससे पहले भी कासिनी 2006 में भी किसी दूसरे ग्रह में आए तूफान की तस्वीर खींच चुका है.

संबंधित समाचार