दिल दुरुस्त रखना चाहते हैं तो नाश्ता न छोड़ें!

breakfast
Image caption अमरीकी शोधकर्ताओं का कहना है कि अगर आपको स्वस्थ रहना है तो आप नाश्ता न छोड़ें.

अगर आपको अपने दिल को दुरुस्त रखना है तो नाश्ता करना न भूलें. नाश्ता न करने वालों के दिल की सेहत ख़तरे में पड़ सकती है.

27 हज़ार लोगों की जीवनशैली पर शोध करने के बाद अमरीकी शोधकर्ताओं ने यह निष्कर्ष निकाला है. सर्कुलेशन नाम के जर्नल में जारी इस शोध में हार्वर्ड स्कूल ऑफ़ पब्लिक हेल्थ का कहना है कि एक बार का खाना छोड़ने का सीधा मतलब है- दिमाग़ पर ‘अतिरिक्त बोझ डालना.’

ब्रिटिश हार्ट फ़ाउंडेशन के मुताबिक नाश्ता आदमी को दोपहर के खाने से पहले मीठे स्नैक्स खाने से रोकता है.

शोध के दौरान 45 से 82 साल के पुरुषों पर 16 साल तक अध्ययन किया गया. इस दौरान डेढ़ हज़ार से ज़्यादा को दिल के दौरे पड़े या उनके दिल ने पूरी तरह काम करना बंद कर दिया.

नाश्ता छोड़ने वाले को 27% ज़्यादा ख़तरा

हालांकि जिन लोगों ने नाश्ता छोड़ा था उनमें सुबह कुछ खाने वालों के मुक़ाबले 27 फ़ीसदी दिल की बीमारियां ज़्यादा देखने को मिलीं. शोधकर्ताओं ने जीवनशैली से जुड़ी दूसरी चीज़ों जैसे धूम्रपान और व्यायाम को भी इनके साथ जोड़ा.

शोधकर्ता डॉक्टर लिया काहिल ने बीबीसी को बताया, ‘सभी बातों का सार यह है कि जब आप सुबह उठें तो खाना न भूलें और वह भी एक घंटे के भीतर.’

‘ये नतीजे बताते हैं कि कुछ होने से कुछ भी न होना अच्छा है लेकिन यह हमेशा अच्छा है किसेहत को फ़ायदा देने वाला और संतुलित कुछ खा लिया जाए.’

डॉ लिया के मुताबिक खाने का वक़्त असल में सेहत की कुंजी है और ‘उपवास तोड़ने’ के बजाय दोपहर के खाने तक इंतज़ार आपके जिस्म को समय के साथ कमज़ोर बना देता है.

उन्होंने कहा कि इस वजह से उच्च रक्तचाप, मोटापा और डायबिटीज़ के ख़तरे बढ़ जाते हैं, जो आख़िर में दिल पर असर डालते हैं.

डॉक्टर कैहिल अपनी बात का समापन यह कहकर करती हैं – ‘नाश्ता न छोड़ें’

'दूसरे आयु वर्गों पर भी शोध ज़रूरी'

ब्रिटिश हार्ट फ़ाउंडेशन की डायटीशियन विक्टोरिया टेलर कहती हैं, ‘इन शोधकर्ताओं ने सिर्फ़ 45 साल से ऊपर के पुरुषों पर अध्ययन किया है. इसलिए अभी यह भी देखना है कि क्या दूसरी उम्र के लोगों के दिल पर भी इसका यही असर पड़ता है.’

‘हम यह तो जानते हैं कि एक सेहतमंद और पेट भरने वाले नाश्ते के बाद आपको बिस्किट उतने अच्छे नहीं लगेंगे, दूसरे यह आपको अपनी डायट में भोजन की विविधता बढ़ाने में भी मदद देगा.’

‘अनाज का टोस्ट या दालें, कम चर्बी के दूध का दलिया दिन की शुरुआत के लिए बेहद अच्छे हैं. ज़रा केले के टुकड़े या सूखा हुआ मेवा खाकर देखें और आप घर से निकलने से पहले ही पूरी तरह तैयार हो चुके होंगे.’

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार