अमरीका में मिला नया स्तनपाई जीव

" 21 वीं शताब्दी में स्तनपाई जीवों की कोई नई  प्रजाति मिलना एक दुर्लभ घटना है."
Image caption "21 वीं शताब्दी में स्तनपाई जीवों की कोई नई प्रजाति मिलना एक दुर्लभ घटना है."

अमरीका के वैज्ञानिकों को कोलम्बिया और इक्वाडोर के घने जंगलों में एक नया स्तनपाई जीव मिला है.

इसका नाम ओलिंगुइटो रखा गया है. पिछले 35 सालों में पहली बार माँसाहारी जीव की कोई प्रजाति अमरीकी महाद्वीप में मिली है.

वैज्ञानिकों का कहना है कि 21 वीं शताब्दी में स्तनपाई जीवों की कोई नई प्रजाति मिलना एक दुर्लभ घटना है. इस स्तनपाई को पहचानने में एक दशक से ज़्यादा समय लग गया.

इसका श्रेय स्मिथसोनिअन इंस्टिट्यूट को जाता है.

यह खोज जीवविज्ञानी क्रिस्टोफ़र हेल्गन ने की है. हेल्गन के शिकागो के एक संग्राहलय के भंडारगृह में कुछ जीवों की खाल और हड्डियाँ देखने से यह खोज शुरू हुई.

खोज

Image caption 35 सेंटीमीटर लंबा ओलिंगुइटो जिस जीव परिवार में शामिल किया गया है उसमें रैकून्स भी आते हैं.

उन्होंने बीबीसी न्यूज़ को बताया, "मैं कुछ ढूँढ रहा था और अचानक मैं ठिठक गया. उसकी खाल गहरे लाल रंग की थी और जब मैंने उसकी खोपड़ी देखीतो मैं उसकी शारीरिक रचना पहचान नहीं पाया. मैंने जितने भी इससे मिलते-जुलते जीव देखे थे, यह उनसे अलग था. तभी मुझे लगा कि यह विज्ञान के लिए एक नई प्रजाति हो सकती है."

डॉक्टर हेल्गन वाशिंगटन डीसी में नेशनल म्यूज़ियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री में स्तनपाई जीवों के निरीक्षक हैं. इस संग्राहलय में स्तनपाई जीवों का दुनिया का सबसे बड़ा संकलन है.

तस्वीरों में देखिए स्तनपायी जीवों की भाव-भंगिमाएं

जगह बचाने के लिए छ लाख से ज़्यादा स्पेसीमन चपटे करके ट्रे में रखे गए हैं. उनकी हड्डियों को साफ करके उनकी खाल के साथ एक बक्से में रखे गए हैं.

इनमें से कई एक सदी से ज़्यादा पुराने हैं. पहले उनपर ग़लत चिप्पियाँ लग जाती थी और उनकी सही से पहचान नहीं हो पाती थी. लेकिन आज कल की आधुनिक तकनीक ने वैज्ञानिकों को सबसे पुराने स्पेसीमन में से भी डीएनए निकालने की सहूलियत दी है.

ओलिंगुइटो के डीएनए के नमूने पांच एनी ज्ञात प्रजातियों से मिलाने के बाद डॉक्टर हेल्गन यह सुनिश्चित कर पाए कि यह एक नई खोज है. 35 सेंटीमीटर लंबा ओलिंगुइटो जिस जीव परिवार में शामिल किया गया है उसमें रैकून्स भी आते हैं.

'रोमांचित'

Image caption जीवविज्ञानी क्रिस्टोफ़र हेल्गन ओलिंगुइटो के स्पेसिमन के साथ.

डॉक्टर हेल्गन कहते हैं, " मैं बता नहीं सकता मैं कितना रोमांचित हूँ."

वह पहले भी दूसरी जीव प्रजातियों को ढूँढने के लिए जीव संग्रह का प्रयोग कर चुके हैं. उन्होंने विश्व का सबसे बड़ा चमकादड़ और सबसे छोटे बैंडिकूट को भी ढूँढा था.

लेकिन डॉक्टर हेल्गन कहते हैं, "ओलिंगुइटो मेरी सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धी है."

इससे पहले अमरीका में ढूँढा गया आखिरी स्तनपाई कोलंबियन वेसेल था.

माँसाहारी होते हुए भी ओलिंगुइटो ज़्यादातर फल ही खाता है. यह रात को बाहर निकलता है और किसी पर निर्भर नहीं रहता. ओलिंगुइटो एक बार में एक बच्चे को ही जन्म देता है.

'समझ नहीं पाए'

वैज्ञानिकों का मानना है कि 1967 से 1976 तक अमरीका के कई चिड़ियाघरों में ओलिंगुइटो की प्रदर्शनी की गई थी.

इसे रखने वाले इसे ओलिंगा समझ रहे थे. यह जीव भी ओलिंगुइटो से मिलता जुलता है. वह यह नहीं समझ पा रहे थे कि इसके बच्चे क्यों नहीं हो सके. इसे कई चिड़ियाघरों में भेज गया. लेकिन बिना पहचान मिले ही इसकी मृत्यु हो गई.

सोसाइटी फॉर नेचुरल हिस्ट्री कलेक्शन के अध्यक्ष क्रिस नोरिस कहते हैं, " आज के समय यह संग्राहलयों में काम करने वालों के लिए एक सीख है कि अगर आप वहां सही से रखरखाव नहीं करेंगे तो वह भविष्य के लिए नहीं बचेंगे."

वैज्ञानिक अभी तक पृथ्वी के जीवों का बहुत थोड़ा ही सूचीबद्ध कर पाए हैं. कीट-पतंगों , बैक्टीरिया आआआउर वायरस की ख़ोज नियमित तौर पर होती रहती है लेकिन नया स्तनपाई जीव मिलना दुर्लभ है.

डॉक्टर हेल्गन कहते हैं, " यह हमें याद दिलाता है कि अभी तक दुनिया को पूरी तरह जाना नहीं गया है और खोज का दौर ख़त्म नहीं हुआ है.ओलिंगुइटो हमें यह सोचने पर मजबूर करता है, " और क्या बचा है ?"

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार