दिमाग़ से कैसे जुड़ा है कुत्तों का दुम हिलाना

कुत्ते हमेशा अपनी पूंछ हिलाते रहते हैं. क्या उनकी पूंछ हिलाने की ये हलचल उनके दिमाग़ से जुड़ी होती है? जानिए कुत्तों की इन हलचलों पर हुए एक शोध के बारे में.

कुत्तों की पूंछ में होने वाली हलचल उनके दिमाग़ से कैसे जुड़ी होती है, वैज्ञानिकों ने इस पर प्रकाश डाला है.

पहले के शोध में यह जानकारी सामने आई थी कि ख़ुश कुत्ते अपनी पूंछ दांई तरफ़ ज्यादा हिलाते हैं और जब कुत्ते परेशान होते हैं तो वे बांई तरफ पूंछ हिलाते हैं.

क्या कहते हैं वैज्ञानिक

लेकिन अब वैज्ञानिकों का कहना है कि साथी कुत्ते पूंछ हिलाने के इस फ़र्क़ को पहचान कर प्रतिक्रिया कर सकते हैं.

यह शोध जीवविज्ञान की एक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.

ट्रेंटो के विश्वविद्यालय से एक न्यूरोसाइंटिस्ट प्रोफ़ेसर जॉर्जियो वैलोर्टिगारा ने कहा,''यह माना जाता है कि इंसानों में मस्तिष्क का दांया और बांया हिस्सा उत्तेजित करने में अलग-अलग भूमिका निभाता है जिससे सकारात्मक और नकारात्मक भावनायें उपजती हैं. इस शोध में हमने दूसरी प्रजातियों में भी यही जानने की कोशिश की. ''

उन्होंने आगे कहा कि इंसानों की तरह ही कुत्तों में भी मस्तिष्क का बांया हिस्सा दांई तरफ़ होने वाली हलचल और विपरीत हावभाव के लिए ज़िम्मेदार थे और दोनों गोलार्द्ध भावनाओं को व्यक्त करने में अलग-अलग भूमिकायें निभाते हैं.

कुत्तों की फ़िल्में

यह पता लगाने के लिए कि कुत्ते दूसरे कुत्तों की तिरछी पूंछ को हिलाते वक्त क्या प्रतिक्रिया ज़ाहिर करते हैं इसके लिए शोधकर्ताओं ने जानवरों की निगरानी की और दूसरे कुत्तों की फ़िल्में भी देखीं.

शोधकर्ताओं ने इन पालतू कुत्तों की दिल की धड़कन मापी और उनके व्यवहार का विश्लेषण भी किया.

प्रोफ़ेसर वैलोर्टिगारा ने कहा, ''हमने कुत्तों को कुत्तों की फ़िल्में दिखायीं किसी भी उलझाने वाले मुद्दे से छुटकारा पाने के लिए एक रूपरेखा की ज़रूरत पड़ी और हम पूंछ की हलचल और इसके बांई या दांई तरफ़ ज्यादा रहने के बारे में जान सके. ''

जब कुत्तों ने एक अन्य भावशून्य कुत्ते को दांई तरफ़ हिलाते देखा तो वे पूरी तरह निश्चिंत खड़े रहे.

लेकिन जैसे ही कुत्तों ने बांई तरफ़ पूंछ हिला रहे कुत्ते को देखा तो उनकी हृदय गति बढ़ गई और वे चिंतित हो गए.

प्रोफ़ेसर के मुताबिक़ उन्हें नहीं लगता है कि कुत्ते अपनी पूंछ की इन हलचलों के ज़रिए आपस में कोई बातचीत कर रहे थे.

शोध

इसकी जगह उन्हें लगता है कि कुत्तों ने इन अनुभवों से यह सीखा है कि उन्हें कौन सी हलचल करना चाहिए और क्या नहीं.

शेधकर्ताओं का कहना है कि ये परिणाम कुत्तों के मालिकों, चिकित्सकों और प्रशिक्षकों को उनकी भावनाओं के बारे में ज्यादा अच्छी तरह से समझने में मदद करेंगे.

कुत्तों की पूंछ की हलचलों को लेकर किया गया यह पहला शोध नहीं था इससे पहले लिंकन विश्वविद्यालय के शोधकर्ता भी पिछले साल ऐसा ही एक शोध कर चुके हैं.

कुत्तों के व्यवहार विशेषज्ञ जॉन ब्रेडशॉ के मुताबिक़ विभिन्न अध्ययनों में कुत्तों को पूरी तरह से व्याख्या नहीं की गई. उन्होंने एक अध्ययन के बारे में बताया जिसमें कुत्ते किस प्रकार कुत्तों को समझते हैं, इसका अध्ययन किया गया था.

उन्होंने कहा, ''इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि स्तनधारियों में मस्तिष्क के दोनों हिस्सों का उपयोग अलग-अलग उद्देश्यों के लिए किया जाता है, और अभी भी बहुत सी जानकारी आना बाक़ी है. कुत्ते कोई अपवाद नहीं हैं.''

उनके मुताबिक़ कुत्तों के व्यवहार को आसानी से रिकॉर्ड किया जा सकता है और शायद बहुत जल्द यह भी पता चल जाएगा कि कुत्ते इपनी पूंछ एक तरफ से दूसरी तरफ़ क्यों हिलाते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार