क्या वाकई पैसा वसूल है गूगल नेक्सस 5?

  • 18 नवंबर 2013
नेक्सस 5

गूगल की नेक्सस फ़ैमिली का सबसे नया सदस्य नेक्सस 5, जल्द ही भारत में उपलब्ध होगा.

कंपनी ने नेक्सस के इससे पहले के संस्करण के लॉन्च होने के एक साल के भीतर ये नया स्मार्टफ़ोन अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में उतारा है.

प्रीमियम स्मार्टफ़ोन ख़रीदने के इच्छुक लोग नेक्सस 5 की कीमत और फ़ीचर्स की वजह से इसमें ख़ासी रुचि दिखा रहे हैं.

लेकिन बड़ा सवाल ये है कि क्या नेक्सस 5 वाकई एक पैसा वसूल फ़ोन है?

नेक्सस 4 और 5 की तुलना करें तो नए नेक्सस 5 में कोई ऐतिहासिक परिवर्तन नहीं किए गए हैं.

कैमरा वही, प्रोसेसर बेहतर

नेक्सस 5 में नेक्सस 4 की ही तरह आठ मेगापिक्सेल का बैक और 1.3 मेगापिक्सेल का फ्रंट कैमरा लगा है.

दोनों फोन्स की डिसप्ले स्क्रीन साइज़ में ज़्यादा फर्क नहीं है. नेक्सस 4 की स्क्रीन 4.7 इंच की है जबकि, नेक्सस 5 की स्क्रीन 4.95 इंच की है. हालांकि नेक्सस 5 की पिक्चर क्वालिटी फुल एचडी (हाई डेफ़िनेशन) है.

नेक्सस 5 में 2.26 गीगाहर्टज़ का शक्तिशाली स्नैपड्रैगन प्रोसेसर लगा हुआ है जो फ़ोन में ही ऑडियो और वीडियों एडिटिंग, हाई-क्वालिटी गेमिंग और डेटा-हेवी ऐप्लिकेशंस के लिए पर्याप्त है. इसमें 2 जीबी का रैम लगा है.

फ़ोन में ग्राफ़िक्स प्रोसेसिंग यूनिट एड्रिनो का उन्नत संस्करण ‘330’ लगा हुआ है, जो कि गेमिंग के दौरान फोन को हैंग होने से बचाता है.

नेक्सस 5 में गोरिल्ला ग्लास 3 लगा हुआ है जो फोन को ‘स्क्रैचप्रूफ’ बनाता है. हालांकि इससे पहले को नोकिया फोन्स की तरह मज़बूती की उम्मीद मत रखिएगा.

4जी कनेक्टिविटी

एक फ़ीचर जो वाकई इसे नेक्सस 4 से उन्नत बनाता है, वो ये है कि नेक्सस 5 में 4जी-एलटीई की सुविधा उपलब्ध है. यानी इसमें फ़र्राटे से इंटरनेट चल सकता है बशर्ते आपकों अपने इलाके में 4जी कनेक्टिविटी मिले और आपका मोबाइल प्लान भी 4जी की सुविधा देता हो.

नेक्सस 5 में एंड्रॉएड का सबसे नया-ताज़ा ऑपरेटिंग सिस्टम ‘4.4 किटकैट’ लोड है जो फ़ोन और यूज़र के बीच इंटरैक्टिविटी को बेहतर बनाता है. नेक्सस 5 ऐसा पहला फ़ोन है जिसमें किटकैट 4.4 ओएस इंस्टाल्ड है.

एंड्रॉएड किटकैट में क्लाउड कंप्यूटिंग को काफ़ी सहज बनाया गया है और क्लाउड प्रिंट का विकल्प भी दिया गया है, यानी फोन से प्रिंट कमांड दीजिए और इंटरनेट से जुड़े कंप्यूटर और प्रिंटर के ज़रिए प्रिंट हाज़िर होगा.

किटकैट का एक और खास फ़ीचर ये है कि इसमें आपके कॉनटैक्ट लिस्ट से जुड़ा हुआ व्यक्ति आपके मोबाइल पर चाहे जैसे आपको मैसेज भेजे (व्हाट्ज़ ऐप या एसएमएस), वो एक ही जगह पर आपको एक साथ दिखेगा.

नेक्सस 4 और अन्य कंपनियों की चुनिंदा स्मार्टफ़ोन्स पर भी ये एंड्रॉएड किटकैट अपडेट जल्द आने की संभावना है.

सैमसंग एस4 से सस्ता

अब देखना ये है कि माइक्रोमैक्स के कैनवास रेंज, कार्बन के सस्ते विकल्पों और सैमसंग के लंबे फ़ोन रेंज से नेक्सस 5 को कितनी चुनौती मिलती है. हालांकि सैमसंग के एस4 से नेक्सस 5 काफ़ी सस्ता है.

भारत में नेक्सस 5 नवंबर में लॉन्च होना है और ट्विटर पर मिल रही अपुष्ट जानकारियों के अनुसार कई स्टोर्स में नेक्सस 5 का स्टॉक पहुंचने भी लगा है.

हालांकि जानकारों का कहना है कि भारत में आधिकारिक बिक्री शुरू होने के कुछ ही दिनों में ये आउट ऑफ़ स्टॉक भी हो जाएगा.

नेक्सस के इससे पहले के संस्करण नेक्सस 4 की मौजूदा बाज़ार क़ीमत करीब 22 हज़ार है, जबकि नेक्सस 5 के प्रारंभिक मॉडल की क़ीमत करीब 30,000 रुपए होगा.

नेक्सस 5 8जीबी, 16 जीबी और 32 जीबी के मेमोरी साइज़ेस में उपलब्ध होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार