गूगल का एशिया में पहला डॉटा सेंटर

गूगल ने एशिया के तेज़ी से बढ़ते इंटरनेट बाज़ार में अपना पहला डॉटा सेंटर स्थापित किया है.

एशिया विश्व की घनी आबादी वाला क्षेत्र है और दुनियां भर की आधी आबादी इस इलाक़े में बसती है. क्षेत्र में इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है.

नये डॉटासेंटर

गूगल के मुताबिक़ एशिया में डॉटा सेंटर के खोले जाने से क्षेत्र के लोगों को मिलने वाली सेवा बेहतर और ज़्यादा विश्वसनीय होगी.

ये दो नये डॉटा सेंटर ताइवान और सिंगापुर में खोले गए हैं.

गूगल के डॉटा सेंटर के उपाध्यक्ष जो कावा ने अपने बलॉग पर लिखा, ''एशिया में इंटरनेट के प्रयोग में आश्चर्यजनक रूप से वृद्धि हुई है. इस साल में ही जुलाई और सितंबर के बीच लगभग छह करोड़ लोगों ने मोबाइल पर इंटरनेट का इस्तेमाल शुरू किया. ये आंकड़ा कनाडा की आबादी से दोगनी और या 'तीन ऑस्ट्रेलिया' के बराबर है.''

Image caption गूगल ने ताइवान और सिंगापुर में दो डाटा सेंटर खोले हैं.

उन्होंने आगे बताया, ''इन आंकड़ों में हो रही बढ़ोत्तरी अभी रुकने वाली नहीं है क्योंकि एशिया में अभी भी बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं जिन्होंने अभी तक इंटरनेट का प्रयोग नहीं किया है.''

भारत और चीन

एशिया में जिस तेजी से इंटरनेट यूजर्स की संख्या बढ़ रही है उसे देखते हुए इंटरनेट कंपनियों के लिए एशिया एक बड़े बाजार के रूप में उभर कर सामने आया है.

एशिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था चीन के 50 करोड़ से ज्यादा इंटरनेट यूजर्स ने चीन को दुनिया का सबसे बड़ा इंटरनेट बाजार बना दिया है.

इस सबके बीच चीन के बाद विश्व की दूसरी सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश भारत में पिछले दो सालों में इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या बढ़कर बीस करोड़ हो गई है.

गूगल के मुताबिक इतनी ही वृद्धि हासिल करने में अमरीका को छह साल लग गए.

गूगल ने कहा कि दोनों डॉटा सेंटर में से सबसे बड़े ताइवान डॉटासेंटर में आगे 60 करोड़ डॉलर निवेश करने की योजना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार