'पर्यावरण में बदलाव से मर रहे हैं पेंगुइन के बच्चे'

पेंगुइन इमेज कॉपीरइट dee boersma

एक नए शोध के अनुसार पर्यावरण में आए बदलाव के कारण अर्जेंटीना में पेंगुइन के बच्चों की मौत हो रही है.

इस शोध के अनुसार तूफ़ान के साथ होने वाली बारिश और तेज़ गर्मी के कारण बड़ी संख्या में पेंगुइन के बच्चों की मौत हो रही है.

27 सालों के दौरान हुए इस शोध में एरिड पुंटा टॉम्बो के प्रायद्वीप में मैज़ीलानिक पेंगुइन की विश्व की सबसे बड़ी कॉलोनी पर पर्यावरणीय बदलाव के असर का अध्यन किया गया है.

यह शोध प्लोस वन पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.

इस प्रायद्वीप में हर साल दो लाख से अधिक पेंगुइन के जोड़े अपना घरौंदा बनाते हैं.

'बुरा असर'

इमेज कॉपीरइट dee boeesma
Image caption मौसम में हो रहे बदलाव का सबसे बुरा असर पेंगुइन के बच्चों पर पड़ता है

वे वहाँ अपने अंडे देने के लिए सितंबर से फरवरी तक मरुस्थल जैसी परिस्थितियों में रहते हैं.

मौसम में हो रहे इस बदलाव का सबसे बुरा असर नवजात पेंगुइनों पर पड़ता है. यह इतने छोटे भी नहीं होते कि इनके अभिभावक इन्हें बैठकर ढँक सकें और इतने बड़े भी नहीं होते कि इनके पंख इन्हें बारिश से बचा सकें.

इसके कारण वे ख़ासतौर पर तूफ़ान के साथ होने वाली बारिश में असहाय हो जाते हैं.

वे अधिक गर्मी भी नहीं झेल पाते हैं क्योंकि वे बड़े पेंगुइनों की तरह पानी में खुद को ठंडा नहीं रख सकते हैं.

इस शोध के अनुसार औसतन हर साल पेंगुइन के लगभग 40 प्रतिशत बच्चे भूख की वजह और सात प्रतिशत पर्यावरण में बदलाव के कारण मर रहे हैं.

'लंबी अवधि का पहला शोध'

इमेज कॉपीरइट dee boersma
Image caption बारिश के कारण पेंगुइन के घरौंदों में पानी भर जाता है.

यह शोध करने वाले वॉशिंगटन विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर डी बोएरेस्मा ने कहा,"यह पेंगुइन के बच्चों के जीवन उनके प्रजनन की सफलता के बारे में इतनी लंबी अवधि का पहला शोध है."

वह कहते हैं, "साल 1983 से 2010 के बीच पेंगुइन के प्रजनन की जगह दिसंबर के पहले दो हफ़्तों में आने वाले तूफानों की संख्या बढ़ गई है. इस दौरान पेंगुइन के बच्चों की उम्र 25 दिन से कम होती है."

उन्होंने बताया, "बारिश के कारण पेंगुइन के घोंसलों में पानी भर जाता है और पेंगुइन के बच्चों के लिए यह अनुकूल स्थिति नहीं होती है."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार