तंदुरुस्ती के लिए सुस्ती से क्यूं न कर लें कुट्टी!

  • 17 मार्च 2014
व्यायाम इमेज कॉपीरइट

ब्रिटेन में हर 100 में से 30 लोग कसरत नहीं करते. ये जानकारी मिंटेल की ओर से आई है.

लूसी टाउनसेंड पूछते हैं कि बिना कुछ खर्च किए, कोई असुविधा या शर्मिंदगी उठाए यदि लोग फ़िट रहना चाहते हैं तो उन्हें क्या करना चाहिए.

कसरत से दूर रहने वाले लोगों के लिए फ़िटनेस गुरु की तरफ से यहां पांच आसान व्यायाम बताए जा रहे हैं जिनकी मदद से वे फ़िट रह सकते हैं.

घर की सीढियां चढ़ें

फ़िट रहने के लिए सबसे आसान उपाय है ज़्यादा से ज़्यादा पैदल चलना और एलिवेटर की जगह सीढ़ियों का इस्तेमाल. दिन भर में सीढ़ियों से पांच दफ़ा उतरें और पांच दफ़ा चढ़ें.

शारीरिक सक्रियता बढ़ाने के लिए कोई ज़रूरी नहीं कि जिम जाकर घंटों कसरत की जाए. फ़िटनेस गुरु रोज़मेरी कोनली की सलाह है कि यह काम घर में ही आसानी से किया जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट

रोज़मेरी कहती हैं, "घर की सीढ़ियां चढ़ें और उतरें. इसमें न तो पैसे लगते हैं और न कोई परेशानी है. यह आसान है. इसमें ज्यादा वक़्त भी नहीं लगता और आपकी सांसें भी नहीं फूलती."

दूसरी आसान तरक़ीब है एक और आसान व्यायाम. फर्श की ओर चेहरा कीजिए, बाहें एल आकार में बांधिए, पांव सीधे रखते हुए नितंब और शरीर को एक सीध में लाइए. फिर दंड लगाइए.

बूटकैंप पाइलेट्स के प्रबंधक इलियट लेक के अनुसार वैसे तो कुछ लोग दंड लगाना पसंद नहीं करते, पर शारीरिक सक्रियता बढ़ाने के लिए यह सबसे बेहतर कसरत मानी गई है.

वे बताते हैं, "यदि इसे हफ़्ते में तीन बार 30 सेकेंड के लिए किया जाए, तो इससे काफ़ी लाभ मिलेगा."

इस कसरत में पेट, पीठ, नितंब, कूल्हे सहित शरीर के निचले और ऊपरी हिस्से को जोड़ने वाली अंदरूनी मांसपेशियां सक्रिय हो जाती हैं. इसके कई फ़ायदों में से निकले हुए पेट का अंदर जाना और शरीर के चलने-फिरने के ढंग में सुधार शामिल है. यही नहीं, इससे रीढ़ की हड्डियों की मज़बूती भी बढ़ती है.

सक्रियता बढ़ाएं

तीसरा आसान उपाय कुछ अलग हटकर है. कोनली अपने ट्विटर अकाउंट से रोज़ 20:00 (जीएमटी) बजे फ़िटनेस सेशन चलाती हैं.

वे कहती हैं, "ये व्यायाम मुश्किल है. इसमें आपके पसीने भी छूट सकते हैं."

"इस व्यायाम में शारीरिक सक्रियता बढ़ाने के लिए कार धोना एक अच्छा विकल्प है. साथ ही बागवानी और लॉन की घास काटने में भी अच्छी-खासी ऊर्जा ख़र्च होती है."

कोनली कहती हैं कि इन गतिविधियों के कई फ़ायदे हैं. ऐसे हल्के व्यायाम से दिल की धड़कन की गति दुरुस्त रहती है. एनएचएस हर हफ़्ते कम से कम 150 मिनट मध्यम गति के एरोबिक एक्सरसाइज़ करने की सलाह देता है.

कसरत करने में आलस करने वालों के लिए चौथी कसरत कुछ दिलचस्प और बेहद आसान है. कोनली की तरक़ीबों में से यह एक और तरक़ीब है.

वे कहती हैं, "इस व्यायाम के लिए पहले अपने सोफ़े के अगले हिस्से पर ठीक से बैठ जाएं. फिर अपना दायां पैर ऊपर उठाएं और हवा में पैर के अंगूठे से 'ए' लिखिए. अब बायां पांव उठाएं और उससे भी वही प्रक्रिया दोहराएं."

वे कहती हैं, "यह कसरत तो टीवी देखते-देखते भी आराम से की जा सकती है."

अलार्म लगाएं

इमेज कॉपीरइट AFP

अगर आप फ़िट रहना चाहते हैं और अपना वज़न कम करना चाहते हैं और इसके लिए समय नहीं है, तो निराश मत हों. यह पांचवां और अंतिम उपाय अपनाएं.

लागबोराह विश्विद्यालय में शारीरिक गतिविधि और सार्वजनिक स्वास्थ्य में वरिष्ठ व्याख्याता डॉ. लॉरेन शेरार कहते हैं, "नियमित समय पर उठना और टहलना फ़ायदेमंद होता है."

डॉ लॉरेन शेरार व्यायाम का तरीक़ा बताते हैं. "अपने फ़ोन में कुछ निश्चित अंतराल का रिमाइंडर लगाएं. जब-जब अलार्म बजे, पांच मिनट के लिए खड़े हों या टहलिए."

शेरार इसके लिए आगाह करते हैं कि डॉक्टरों ने भी लंबे समय तक बैठने को हानिकारक बताया है.

कहा गया है कि ज़्यादा वक़्त तक बैठने से लंबी उम्र नहीं होती.

शेरार कहते हैं, "प्रत्येक 30 मिनट पर पांच मिनट के लिए खड़े होना सेहतमंद और फ़िट रहने का सबसे अच्छा और आसान व्यायाम है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार